मडिय़ावं सेक्स संचालिका और उसकी बेटी की हत्या का पर्दाफाश

लूट के इरादे से हुई थी हत्या, पुलिस ने एक आरोपी को किया गिरफ्तार

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। मडिय़ावं थाना क्षेत्र में सेक्स रैकेट संचालिका शायरा बानो और उसकी बेटी की हुई हत्या के मामले का पुलिस ने पर्दाफाश करते हुये दो आरोपियों को गिरफ्तार किया है। संचालिका शायरा बानो की हत्या जहां लूट को लेकर हुई थी वहीं उसकी बेटी की हत्या शिनाख्त करने के डर से आरोपियों ने की थी।

बता दें कि मडिय़ावं थाना क्षेत्र के प्रीतिनगर, बसंत बिहार कॉलोनी निवासी लाल बहादुर की पत्नी सायरा व उसकी 15 वर्षीय बेटी सोनी की 1 जून को हत्या कर दी गई थी। लाल बहादुर सीमेंट का कारोबार करता था। उसकी पत्नी सायरा बानो सेक्स रैकेट चलाती थी। पुलिस के मुताबिक, बेटी की लाश बाथरूम में जबकि सायरा की लाश उसके बेडरूम में मिली थी। जिस समय घटना हुई उस समय सायरा का कथित पति लाल बहादुर मिश्रा अपनी दुकान पर था। दोनों की हत्या साइलेंसर युक्त असलहा और चाकू से गोदकर हुई थी। पुलिस सूत्रों का कहना है कि लूट के इरादे से अपने साथी के साथ घर में दाखिल हुए शिवओम त्रिपाठी ने सायरा की हत्या कर दी थी। हत्या करते हुये सोनी ने देख लिया था। पहचान होने के कारण सोनी की भी हत्या कर दी गई थी।

कौन है शिवओम त्रिपाठी
शिवओम त्रिपाठी अपना नाम बदलकर रियाज ऊर्फ राजू के नाम से अजीजनगर में रह रहा था। उसने नसीफा नाम की एक महिला से शादी की थी। नसीफा भी सेक्स रैकेट चलाती है। नसीफा और सायरा दोनों एक-दूसरे के बिजनेस में सहयोग करती थीं। सूत्रों का कहना है कि नसीफा की दो बेटियां हैं। दोनों देह व्यापार में संलिप्त हैं। शिवओम का आना-जाना सायरा के घर पर लगा रहता था। शिवओम के मुताबिक उसने देखा था कि सायरा के पास लाखों रुपये की ज्वैलरी मौजूद है। लूट के इरादे से उसने घटना को अंजाम दिया था।

एलियांज एनजीओ की सूचना पर हुई थी गिरफ्तारी
विगत वर्ष पूर्व एलियांज एनजीओ की सूचना पर तत्कालीन एसीएम पंचम मिश्रा और सीओ अलीगंज अखिलेश नारायण सिंह ने छापा मारकर सायरा सहित लगभग एक दर्जन युवतियों को गिरफ्तार किया था। पुलिस ने उसका मकान भी सीज किया था। लेकिन उसी मकान में हत्या होना स्थानीय पुलिस की कार्रवाई पर भी सवाल उठाता था।

Pin It