मंत्री के सामने सफाई कर्मचारियों ने महिला मरीज को पीटा

Capture4पीएम न्यूज़ नेटवर्क

लखनऊ। डफरिन अस्पताल में मंत्री के सामने ही तीमारदार और कर्मचारी भिड़ गए। शौचालय में प्रसव के बाद प्रसूता और उसके तीमारदारों से हुई बदसलूकी की शिकायत से भडक़े सफाई कर्मचारियों ने खूब बवाल किया। मंत्री के सामने ही सफाई कर्मचारी ने तीमारदार को पीट दिया। मंत्री ने इस मामले को गंभीरता से लेते हुए तीन कर्मचारियों को हटाने के निर्देश दिए हैं।
बताते चलें कि दो दिन पूर्व शौचालय में प्रसव मामले में हुई लापरवाही की जांच के लिए चिकित्सा, स्वास्थ्य एवं जन्तु उद्यान राज्य मंत्री डॉ. शिव प्रताप यादव डफरिन अस्पताल पहुंचे। उनके साथ प्रमुख सचिव चिकित्सा अरविंद कुमार भी थे। डॉ.यादव ने पीडि़त महिला आशिया से मुलाकात कर हालचाल लिया। आशिया और उसकी मां ने परवीन ने पूरी घटना की जानकारी देते हुए कर्मचारी की शिकायत की। इस बीच कर्मचारी अपनी सफाई देते रहे। कर्मचारियों का आरोप था कि पीडि़ता झूठ बोल रही है। एक-दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप हुआ। इस पर मंत्री ने नाराजगी व्यक्त करते हुए चिकित्सा अधीक्षक डॉ. मंजुल बहार से कहा कि ऐसे कर्मचारियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाए। उन्होंने कहा कि मरीजों के साथ किसी तरह की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी। साथ ही पूरे मामले की जांच कर रही परिवार कल्याण निदेशक डॉ. पार्वती शिंदे से कहा कि वह 24 घंटे में जांच रिपोर्ट दें जिससे आरोपियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जा सके।
तीन घंटे प्रभावित रहा इलाज
अस्पताल में मंत्री ने बीच-बचाव का प्रयास किया पर सफाई कर्मी नहीं माने। वे प्रसूता से मारपीट पर उतारू थे। आरोप है कि एक महिला सफाई कर्मचारी ने मंत्री के सामने ही अपने कपड़े फाड़ डाले। असहज मंत्री, स्वास्थ्य विभाग के प्रमुख सचिव, स्वास्थ्य महानिदेशक प्रमुख अधीक्षिका के कमरे में चले गए। इस मामले में मंत्री ने निदेशक की रिपोर्ट पर ठेके पर तैनात एक नर्स, एक सफाई कर्मचारी व वार्ड आया को तत्काल हटाने का आदेश दिया है। हंगामे की वजह से वार्डों में अफरातफरी मची रही। करीब तीन घंटे तक इलाज प्रभावित रहा।

Pin It