भटक रहे छात्र, आराम फरमा रहे अधिकारी

 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
Captureलखनऊ। पॉलीटेक्निक के छात्रों की परेशानी कम होने का नाम नहीं ले रही है। जिम्मेदार अधिकारियों ने 11 अगस्त को यह आश्वासन दिया था कि दो दिन के भीतर वेबसाइट पर व्याप्त त्रुटियों में सुधार दिखेगा, लेकिन एक सप्ताह बाद भी कोई सुधार नहीं हुआ। न तो वेबसाइट अपडेट हुई और न ही छात्रों को कोई सकारात्मक जवाब दिया जा रहा है।
पॉलीटेक्निक के डेढ़ लाख छात्रों का भविष्य संकट में है। कॉलेज में इस सत्र की पढ़ाई शुरू हो गई है। लेकिन प्राविधिक शिक्षा परिषद के अधिकारियों के ढुलमुल रवैये की वजह से छात्रों में असमंजस की स्थिति बनी हुई है। छात्रों का न तो अगली कक्षा में प्रवेश हो रहा है और न ही वह उसी कक्षा में प्रवेश ले पा रहे हैं। छात्रों का कहना है कि अब तक वेबसाइट कोई अपडेट नहीं आई है। हम लोग रोज प्राविधिक शिक्षा परिषद बोर्ड के चक्कर लगा रहे हैं। नए सत्र में प्रवेश शुरु हो चुका है रिजल्ट में गड़बड़ी के कारण हम लोग कहीं के नहीं रहे। छात्रों के साथ-साथ उनके अभिभावक भी इस मानसिक प्रताडऩा से गुजर रहे है। आजमगढ़, अलीगढ़,बस्ती ,नोएडा, कानपुर, सुल्तानपुर, इलाहाबाद सहित प्रदेश के अन्य कई जिलों से छात्र प्रतिदिन एक उम्मीद से लखनऊ के प्राविधिक शिक्षा परिषद के बोर्ड ऑफिस के चक्कर लगा रहे हैं कि उनका साल न बर्बाद न हो। लेकिन जिम्मेदार लोगों को इससे कोई सरोकार नहीं है। वह सिर्फ मौखिक आश्वासन देकर छात्रों को बैरंग लौटा दे रहे है।

झेलनी पड़ रही मानसिक यातनाएं

अधिकारियों के इस व्यवहार से छात्रों सहित उनके अभिभावकों को मानसिक यातनाएं झेलनी पड़ रही हैं। कुछ छात्र तो ऐसे है जो रिजल्ट की गड़बड़ी के कारण अपने घर तक नही जा पा रहे हैं। छात्रों का कहना है कि हम लोग कैसे घर जाएं। शर्म की वजह से घर नहीं जा रहे है। वहीं कुछ फाइनल ईयर के छात्र ऐसे है जिनकी नौकरी पक्की होते हुए भी रिजल्ट में फेल होने के कारण नौकरी हाथ से निकल गई। अभिभावकों कहना है कि बच्चे इतने परेशान है कि उनकी तकलीफ देखकर हम लोग परेशान हो गए हैं। अब तो बच्चों को अकेले नहीं छोड़ सकते। बच्चे डिप्रेशन में आ गए है। डर लगता है कि कहीं कोई गलत कदम न उठा ले। अभिभावक राम प्रताप ने कहा कि इस चक्कर में पैसे की भी खूब बर्बादी हो रही है।
विभाग का नंबर रहता है स्विच ऑफ

छात्रों को रिजल्ट संबंधी जानकारी देने के लिए अधिकारियों ने कुछ नंबर छात्रों को दिया है कि छात्र अपनी समस्या की जानकारी इस नंबर पर फोन कर प्राप्त कर सकते है। दूर-दराज से छात्रों को यहां नहीं आना पड़ेगा इस सुविधा को ध्यान में रखकर नंबर तो दे दिया गया है पर छात्र जब फोन करते है तो नंबर या तो नॉट रीचबल रहता है नहीं तो स्विच ऑफ। ऐसे में छात्रों को लखनऊ आने के अलावा कोई विकल्प नहीं बचता।

Pin It