बेबाक बोल: क्या मौसम है….

भारत जैसे ऊष्णकटिबंधीय देशों में आम तौर पर मौसम अस्थिर रहता है। पिछले कुछ समय से तकनीकी विकास के कारण वैज्ञानिकों के लिए बादलों के गरजने और बरसने की भविष्यवाणियां थोड़ी आसान हो गई हैं। हालांकि ऊष्णकटिबंधीय मौसम कई बार घंटों के हिसाब से करवट लेता है, जिस कारण इसका सटीक अनुमान बहुत आसान नहीं है। भारतीय मौसम तो हमेशा से आवारा मिजाज का रहा है। कब बारिश, कब धूप और कब बादल मालूम ही नहीं। लेकिन वक्त ने करवट ली। मौसम के बदलते मिजाज की खबर मौसम से पहले हमें है। अब सुबह घर से निकलते वक्त लोग अखबार में मौसम का कोना जरूर पढ़ते हैं। मोबाइल पर ‘मौसम अद्यतन’ सजग करता रहता है। सच है कि मौसम को परखने का यह मौसम भी अभी बदला है। वरना पहले तो अगर मौसम विभाग ने कह दिया कि बारिश होगी तो मतलब धूप और धूप कहा तो बारिश। व्यंग्य चित्रकार मौसम विभाग की भविष्यवाणियों पर अक्सर चुटीले तीर चलाते हैं तो लोग चौपाल या शहरी महफिलों में मजाक उड़ाते दिखते हैं।
पिछले लोकसभा चुनावों के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दुनिया में तेल की कम होती अंतरराष्ट्रीय कीमतों की वजह से खुद को किस्मतवाला कहा था! लेकिन उनकी चमकती किस्मत पर मानसून के कमजोर बादलों ने पानी फेर दिया। कई इलाकों में कमजोर बादलों की पुख्ता खबर के बाद भी सरकार ने मजबूत तैयारी नहीं की और आसमान छूती दाल की कीमतों के साथ बढ़ती महंगाई ने दिल्ली और बिहार में भाजपा की चुनावी फसल को बेतरह नुकसान पहुंचाया। कश्मीर से कन्याकुमारी तक फैले भारत की विडंबना यही है कि यहां की सत्तर फीसद आवाम को आज भी मौसम ही ‘किस्मतावाला’ बनाता है।
2013 में उत्तराखंड में आई कुदरती आपदा के बाद विशेषज्ञों ने कहा था कि मौसम की चेतावनी के बाद अगर सरकार समय पर आपदा प्रबंधन करती तो शायद इतने बड़े पैमाने पर जान-माल के नुकसान से बचा जा सकता था। लेकिन सरकारों की नींद आमतौर पर तब खुलती है जब ऐसी आपदाएं बहुत कुछ तबाह कर जाती हैं। कुछ समय पहले चेन्नई के साथ तमिलनाडु के कई इलाकों में आई बाढ़ ने जनजीवन को बंधक बना लिया था। दिल्ली में बारिश के बाद सडक़ पर बदइंतजामी की बाढ़ से जूझ चुके अमेरिकी विदेश मंत्री ने देश की तकनीक के अगुआ आइआइटी में बैठे लोगों से पूछा था कि क्या आप लोग नाव से आए हैं? क्या यह केवल प्रकृति के उतार-चढ़ाव का नतीजा है? क्या यह शहरी नियोजन और व्यवस्था में लापरवाही से पैदा हुई अफसोसनाक तस्वीर नहीं है जो अमेरिकी विदेश मंत्री को यह तंज कसने का मौका देती है? यह किसकी लापरवाही है और किसने अपनी जिम्मेदारियां पूरी नहीं कीं?
बारिश को लेकर मौसम विभाग की सटीक चेतावनी के बाद भी दिल्ली और गुडग़ांव सिर्फ बरसात के पानी से पैदा बाढ़ में डूबने पर मजबूर हो जाते हैं तो बिहार, उत्तर प्रदेश, असम, पश्चिम बंगाल के ग्रामीण इलाकों के बारे में क्या कहा जाए, जहां नदियों के पानी में उफान और उसका अपने किनारों को अपने दायरे में समेट लेना एक प्राकृतिक घटनाक्रम का नतीजा है। सूचना क्रांति के इस युग में सूचना को ही सबसे बड़ा हथियार माना गया। लेकिन हम सूचना हासिल करने के बाद प्रबंधन के स्तर पर हाथ पर हाथ धरे बैठे रह जाएं तो इस सूचना का क्या लाभ। हाल ही में बिहार में आई बाढ़ के बाद पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव ने बाढ़ के फायदों की बात कही तो खूब हंगामा बरपा। यह सही है कि नदियों की बाढ़ मिट्टी और खेती को नया जीवन देती है। अब यह सत्ता पर बैठे हुक्मरानों पर निर्भर करता है कि वे बाढ़ को वरदान बनाएं या फिर अभिशाप।
पर अब वक्त आ गया है कि हम इसरो और अन्य वैज्ञानिक अनुसंधान केंद्रों को मजबूत बना कर इस बेचारगी के माहौल को खत्म करने की ओर कदम बढ़ाएं। इस साल बारिश के लगभग ठीक-ठाक पूर्वानुमान के बाद मौसम विभाग पहली बार शीतलहर के बारे में भी भविष्यवाणी करने की तैयारी कर रहा है। अंतरिक्ष में भेजे गए उपग्रहों की बदौलत पूरी तवक्को है कि ये पूर्वानुमान सही साबित होंगे। अब तो मौसम विभाग पर्यटन पूर्वानुमान, हाइवे पूर्वानुमान और पर्वतीय मौसम के लिए अलग से पूर्वानुमान जता रहा है। शोध संस्थाएं और वैज्ञानिक तो अपना काम कर रहे हैं, लेकिन विज्ञान से उपजे नए सच का सामना जनता से करवाने में हमारी सरकारें कितनी सक्षम हैं। इस बात की जानकारी होना भी जरूरी है। तो क्या हम यह उम्मीद करें कि सरकार शीतलहर से पहले उन लोगों के लिए ठंड से बचने का पूरा इंतजाम करेगी, जिनके सिर पर छत नहीं है, ताकि इन सर्दियों में हमें अखबारों में यह सुर्खियां न पढऩे को मिलें कि अमुक जगह पर खुले आसमान के नीचे सोए ठंड से अनेक लोगों की जान गई। अगर इतनी सूचनाओं के बाद भी हम प्रबंधन के स्तर पर नहीं सुधरे तो हमें लिखना पड़ेगा कि फलां व्यक्ति की जान बारिश, ठंड या लू से नहीं,
बल्कि सरकारी लापरवाही के कारण गई। अमेरिका और चीन जैसे देश भी मौसम के गुस्से का सामना
करते हैं। लेकिन इन देशों में करवट लेता मौसम बड़ी संख्या में लोगों की मौतों का कारण नहीं बनता है, क्योंकि इन देशों की सरकारें मौसम
की मार से बचने की पुख्ता तैयारी करती हैं।

Pin It