बेटी को बचाने के लिये की सायरा की हत्या

पहली पत्नी की हत्या में काट चुका है सात वर्ष की सजा

अय्याश और हत्यारा पिता भी नहीं चाहता कि उसकी बेटी दलदल में फंसे

 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। कोई भी पिता यह नहीं चाहता कि उसकी बेटी गलत काम करें। पिता भले ही अय्याश हो, हत्यारा हो लेकिन अपनी बेटी को इज्जत की जिदंगी देना चाहता है। ऐसा ही कुछ शिवओम त्रिपाठी के साथ हुआ। बेटी देह व्यापार के धंधे में न जाए इसके लिए उसने सेक्स रैकेट संचालिका सायरा बानो व उसकी बेटी सोनी की हत्या कर दी। पहली पत्नी की हत्या में सात वर्ष की सजा काट चुका शिवओम त्रिपाठी धर्म परिवर्तन कर जहां तीन-तीन शादियां की।
1 जून की रात में सायरा व उसकी बेटी की हत्या कर दी गई थी। पुलिस इस मामले की छानबीन कर रही थी। मंगलवार को पुलिस ने शिवओम त्रिपाठी को गिरफ्तार किया था। उसके पास से .32 कारतूस, एक पिस्टल व लूटी हुई ज्वेलरी बरामद हुई। शिवओम का कहना है कि उसकी बेटी को सायरा बहला-फुसला रही थी। मुझे डर था कि कहीं वह इसमें फस न जाए। मेरे मना करने के बाद भी बेटी सायरा के घर आती-जाती थी। इस संबंध में एसएसपी राजेश कुमार पांडेय ने कहा कि एक जून की देर रात को मडिय़ावं में सेक्स संचालिका और उसकी 15 वर्षीय बेटी सोनी को घर में ही गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। सायरा के पति लाल बहादुर मिश्रा की तहरीर पर पुलिस मुकदमा दर्ज कर मामले की जांच कर रही थी। क्राइम ब्रांच, सर्विलांस और मडिय़ावं पुलिस द्वारा दो माह से ऊपर चली जांच में पुलिस ने एक-एक पहलुओं को गम्भीरता से लिया। जहां आखिरकार पुलिस की मेहनत रंग लाई और मां-बेटी की हत्या करने वाला शिवओम त्रिपाठी को पुलिस ने गिरफ्तार किया। शिवओम त्रिपाठी के साथ घटना में आमिर ने भी साथ दिया था।
शातिर अपराधी है शिवओम
सीएमएस स्कूल का पढ़ा हुआ शिवओम त्रिपाठी शातिर अपराधी है। शिवओम त्रिपाठी को भी पता नहीं है कि उसके ऊपर किस थाने में कितने मुकदमें दर्ज है। नौ जून वर्ष 1996 को उसने सुमन सिंह से पे्रम विवाह किया था। जहां उसकी एक बेटी दिव्या पैदा हुई थी। सात वर्ष नौ जुलाई 2003 को शिवओम ने सुमन को घुमाने के बहाने पत्नी की हत्या कर शव को छिपा दिया। इस मामले में उसे सात वर्ष की सजा हुई। इसके बाद शिवओम ने मुस्लिम धर्म स्वीकार कर अकील अहमद बन गया और फिरोजा नाम की महिला से शादी की। इसके बाद शिवओम ने रेशमा ऊर्फ नफीसा से पे्रम विवाह किया। नफीसा अजीज नगर में ही रहती थी। नफीसा भी सायरा के साथ मिलकर देह व्यापार का धंधा करती थी। लेकिन शिवओम को कतई यह बर्दाश्त नहीं था कि उसकी बेटी को भी देह व्यापार में धकेला जाये। कई बार उसने सायरा के घर बेटी को देखने पर उसकी जहां पिटाई किया था वहीं मोबाइल भी तोडक़र फेक दिया था। इसी मामले को लेकर उसने हत्या की घटना को अंजाम दिया था।

लालबहादुर भी कम नहीं
सायरा का पति लाल बहादुर भी कम नहीं है। उसने भी मुस्लिम धर्म बदलकर सायरा से शादी की थी। और उसके देह व्यापार में सहयोग करने लगा। वह स्वयं को पत्रकार भी बताता था।

Pin It