बीजेपी का चाल, चरित्र, चेहरा सब दलित विरोधी: मायावती

भाजपा ने वीके सिंह के खिलाफ नहीं की कोई कार्रवाई
रोहित वेमुला प्रकरण में भी हुई लापरवाही
दलितों के सम्मान पर भाजपा गंभीर नहीं

Capture4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। बीजेपी यूपी महिला मोर्चा अध्यक्ष मधु मिश्रा की टिप्पणी पर पलटवार करते हुए बसपा प्रमुख मायावती ने बीजेपी को पूरी तरह से दलित विरोधी बताया है। मधु मिश्रा की दलितों के खिलाफ की गई टिप्पणी पर हुए निष्कासन को बसपा ने नाटक करार दिया है। मायावती ने इसे दिखावटी और खानापूर्ति कहा। उन्होंने कहा कि यह विधानसभा चुनाव को देखते हुए मजबूरी में लिया गया फैसला है। यदि बीजेपी दलित सम्मान के मामले में इतना गंभीर है तो दलितों की तुलना जानवर से करने वाले केंद्रीय मंत्री वीके सिंह के खिलाफ पार्टी को पहले एक्शन लिया जाना चाहिए।
मायावती ने कहा कि जग-जाहिर है कि बीजेपी एंड कंपनी का चाल, चरित्र और चेहरा हमेशा से ही घोर जातिवादी और खासकर दलित-विरोधी रहा है। केंद्र में सरकार बनने के बाद उच्च पदों पर बैठे लोग भी दलितों का अपमान करने में जरा भी पीछे नहीं रहते हैं। विदेश राज्यमंत्री वीके सिंह का घोर निंदनीय और कभी भी माफ नहीं किया जाने वाला बयान देश की जनता के सामने है। उन्होंने दलितों की तुलना जानवर से करके न केवल अपने मंत्री पद की गरिमा को गिराया, बल्कि संविधान के शपथ का खुल्लम-खुल्ला उल्लंघन भी किया। मायावती ने रोहित वेमुला प्रकरण को भी दलितों पर हमला बताया। दलित छात्र रोहित वेमुला के आत्महत्या मामले में भी केंद्र के दो मंत्रियों के साथ-साथ हैदराबाद यूनिवर्सिटी के कुलपति की भूमिका सामने आने के बाद अभी तक कोई एक्शन नहीं लिया गया।
इसके साथ ही मिश्रा के मामले में कहा कि अफसोस है कि अभी तक न तो मोदी और न ही बीजेपी के शीर्ष नेतृत्व ने उनके खिलाफ कोई भी सख्त कार्रवाई नहीं की है। बीजेपी नेतृत्व की नीयत अगर थोड़ी भी साफ होती, तो मधु मिश्रा पर कार्रवाई से पहले वीके सिंह को बर्खास्त करती।

Pin It