बिना अनुमति के सडक़ खोदी तो होगी कार्रवाई: नगर आयुक्त

लखनऊ। बरसात तक सडक़ खोदाई पर पूरी तरह से प्रतिबंध लगा दिया गया है। जो सडक़ खोदी पड़ी हैं उन्हें जल्द से जल्द दुरुस्त करने के निर्देश दिए गए हैं। विशेष परिस्थितियों में ही खोदाई करने की इजाजत देने की बात कही है। इसके बावजूद जलकल विभाग या फिर किसी अन्य कंपनी ने बिना इजाजत के चार जुलाई के बाद से सडक़ खोदी तो सीधे नगर आयुक्त एफआइआर दर्ज कराएंगे। इसके आदेश नगर आयुक्त ने सभी जोन के अधिशासी अभियंताओं को दिए हैं।
नगर आयुक्त उदय राज सिंह ने बताया कि जलकल विभाग द्वारा किया गया कार्य गलत है, इससे आम जनमानस को परेशानी हुई है। मामला संज्ञान में आते ही जलकल के वरिष्ठ अधिकारियों को कड़ा पत्र लिखकर हिदायत दी गई है। अगर सडक़ बिना इजाजत के खोदी गई तो संबंधित अधिकारी के वेतन से कटौती की जाएगी। यही नहीं चार्जशीट दी जाएगी। न माने तो संबंधित अभियंताओं के खिलाफ एफआइआर दर्ज कराकर जेल भेजा जाएगा। आशियाना में जलकल विभाग ने सेक्टर जे, एम, एल, जी, डी में सडक़ सीवर लाइन डालने के कारण खोद डाली है। खजाना मार्केट से आशियाना को जाने वाली रोड पर खोदाई के कारण काफी बड़ा गड्ढ़ा खोद दिया गया है। जोन चार में जलकल विभाग ने कठौता झील, विनम्र खंड और विराट खंड में बिना किसी इजाजत के सडक़ खोद डाली। पूछने पर अभियंता कहते हैं कि लाइनें लीकेज हो रही थी। महानगर स्थित चंद्रशेखर पार्क के पास सडक़ खोद डाली।

Pin It