बसपा ने चुनाव आयोग से की भाजपा नेताओं की शिकायत

लखनऊ। अब बहुजन समाज पार्टी ने भाजपा नेताओं पर आचार संहिता का उल्लंघन करने का आरोप लगाया है। बसपा महासचिव व सांसद सतीश चंद्र मिश्र ने आयोग से भाजपा प्रदेश अध्यक्ष केशव प्रसाद मौर्या और सांसद साक्षी महराज के खिलाफ आयोग में लिखित शिकायत दर्ज कराई है। इसके पूर्व भाजपा ने बसपा सुप्रीमो के खिलाफ आयोग में शिकायत दर्ज कराई थी। भाजपा और बसपा के बीच चुनावी तकरार बढ़ती जा रही है। दोनों पार्टियों ने चुनाव आयोग में एक दूसरे के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई है। बसपा के राष्टï्रीय महासचिव व राज्यसभा सांसद सतीश चंद्र मिश्र ने चुनाव आयोग को दिए गए शिकायती पत्र में आरोप लगाया है कि भाजपा सासंद साक्षी महराज ने पिछले दिनों एक वर्ग विशेष पर आपत्तिजनक टिप्पणी की थी, जिससे धर्म के आधार पर मतदाताओं को प्रभावित करने का प्रयास किया गया। वहीं श्री मिश्र ने भाजपा अध्यक्ष केशव प्रसाद मौर्या पर अपने भाषण के दौरान यादव बिरादरी का जिक्र करने का आरोप लगाते हुए दोनों के खिलाफ कार्रवाई किए जाने की मांग की है। 

सुरक्षित सीटों पर आरक्षण समर्थकों की निगाह
लखनऊ। आरक्षण बचाओ संघर्ष समिति का दावा है कि प्रदेश के 35 जिलों में आरक्षण समर्थक निर्णायक मतदाता की स्थिति में हैं। वहीं प्रदेश में उसी पार्टी की सरकार बनी है, जिसने सुरक्षित सीटों पर विजय हासिल की हो। इसके चलते समिति ने प्रदेश की सभी 84 सीटों पर अपनी निगाह गड़ा ली है। समिति ने आरक्षण समर्थकों से एकजुट होने की अपील की है। उत्तर प्रदेश में जब विधानसभा चुनाव का बिगुल बज चुका है, ऐसे में पदोन्नतियों में आरक्षण के पक्षधर आरक्षण समर्थक भी पूरी तरह से मैदान में कूद पड़े हैं। आरक्षण बचाओ संघर्ष समिति के अध्यक्ष अवधेश वर्मा के मुताबिक विधानसभावार आरक्षण समर्थक वोटरों पर नजर बनाये हुए हैं। समिति का दावा है कि प्रदेश में पूर्ण बहुमत की सरकार उसी पार्टी की बनी है, जिसने प्रदेश की 84 सुरक्षित सीटों में से अधिकतम पर कब्जा किया है। 2007 में जब बसपा को 62 सीटें मिलीं तो उसकी पूर्ण बहुत की सरकार बनी। 2012 में जब 58 सुरक्षित सीटों पर सपा का कब्जा हुआ तो उसकी सरकार बनी।

Pin It