बलरामपुर में न्यू ओपीडी के लिए मरीजों को करना पड़ेगा और इंतजार

ओपीडी में सीलिंग, एसी फिटिंग समेत अनेकों काम लंबित

 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। बलरामपुर अस्पताल की न्यू ओपीडी को व्यवस्थित होने में अभी कुछ और वक्त लग सकता है। इसकी वजह ओपीडी में सीलिंग, एसी फीटिंग और वायरिंग समेत कई अन्य कार्यों का लंबित होना है, जिसको पूरा करने में काफी समय लगेगा। इसलिए निर्माण कार्य पूरा होने की अवधि बढ़ाने को लेकर अभी से चर्चा शुरू हो गई है।
प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने वर्ष 2014 मार्च में न्यू ब्लॉक में ओपीडी का शिलान्यास किया था। यह ओपीडी 3337.69 लाख रुपये की लागत से मार्च 2016 तक बनकर तैयार होने का लक्ष्य निर्धारित किया गया था। हालिया स्थिति यह है कि न्यूओपीडी की तीन मंजिला बिल्डिंग बनकर तैयार हो चुकी है। इस बिल्डिंग के आधे हिस्से में एसी प्लांट, फाल्स सीलिंग लगाने का काम चल रहा है। इसके बावजूद कार्यदायी संस्था निर्माण कार्य पूरा कराने में अतिरिक्त समय की मांग करने पर विचार कर रहा है। कार्यदायी संस्था राजकीय निर्माण निगम लिमिटेड के एक अधिकारी ने बताया कि जिस गति से निर्माण कार्य चल रहा है, उसके हिसाब से मार्च 2016 तक निर्माण कार्य पूरा नहीं हो पायेगा। वहीं न्यू ओपीडी बिल्डिंग में किन-किन विभागों की ओपीडी चलेगी और कहां चलेगी, इसको लेकर अस्पताल प्रशासन भी स्पष्ट नहीं है। अस्पताल प्रशासन के अधिकारी ओपीडी का विभाग और स्थान चयन को लेकर मंथन कर रहे हैं, क्योंकि ब्लॉक निर्माण के चलते पुरानी ओपीडी को तोडक़र निर्माण कार्य शुरू हुआ, इसलिए ओपीडी की वैकल्पिक व्यवस्था
की गयी है।
गौरतलब हो कि सुपर स्पेशियलिटी ब्लॉक में ज्यादातर ओपीडी स्थानांतरित की गयीं। इसके अलावा आर्थो, र्चम रोग, टीबी आदि कई विभागों की ओपीडी के बीच काफी गैप है। दवा काउंटर भी ओपीडी से काफी दूरी हैं। अस्पताल के मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डा.
राजीव लोचन ने बताया कि ओपीडी ब्लॉक के लिए चिकित्सकीय उपकरण आदि कई व्यवस्थाएं होनी हैं। फिलहाल, तीस मार्च
के बाद ब्लॉक के उद्घाटन की संभावना है। इसके बाद सभी विभागों की ओपीडी, दवा काउंटर और पैथालॉजी की एक साथ सुविधा मिलेगी।

Pin It