बरखा दत्त ने किया खुलासा ’उनका भी हुआ था यौन शोषण’

मैं एक सिनेमैटोग्राफर के साथ रिलेशन में आ गई, लेकिन जल्द ही महसूस हुआ कि ये मेरे लिए सही नहीं है

G14पीएम न्यूज़ नेटवर्क
नई दिल्ली। टीवी जर्नलिस्ट बरखा दत्त ने अपने बारे में खुलासा करते हुए कहा है कि वे बचपन में यौन शोषण का शिकार हो चुकी हैं। उन्होंने हाल ही में लांच हुई अपनी किताब में इसका जिक्र किया है। बरखा दत्त की हाल ही में ‘दिस अनक्विट लैण्ड स्टोरीज फ्राम इंडियाज फाल्ट लाइन्स’ नाम की किताब लांच हुई है, जिसमें उन्होंने अपने यौन शोषण का जिक्र किया है। उन्होंने कहा है कि मेरा शोषण करने वाला कोई और नहीं बल्कि हमारा रिश्तेदार था।
पुस्तक के मुताबिक मैं उस समय बहुत छोटी थी। उस बात को समझ नहीं पा रही थी, किन्तु जैसे-जैसे मैं बड़ी होती गई वैसे-वैसे मुझे समझ आया की मेरे साथ बहुत गलत हुआ है। उन्होंने बताया की बचपन के उन दिनों में मैंने गिल्ट और डर को हटाकर एक दिन अपनी मां को अपने साथ हो रही हरकतों के बारे में बता दिया। उस रिश्तेदार को फौरन घर से बाहर निकाल दिया गया। मैंने भी अपनी बुरी यादों को दफन करने की कोशिश की। इस उम्मीद के साथ कि जिंदगी में मुझे फिर कभी इस तरह की चीजों का सामना नहीं करना पड़ेगा। इसी के साथ उन्होंने अपने जीवन से जुड़ी कई ऐसी घटनाओं का जिक्र किया है, जिसमें उन्होंने खुद को असहज महसूस किया। उन्होंने देश में हो रहे बलात्कार और लड़कियों पर अत्याचारों को लेकर भी बहुत कुछ लिखा है।
बरखा ने किताब में लिखा है कि मैं दिल्ली की जामिया मिलिया यूनिवर्सिटी में पोस्ट ग्रेजुएशन की स्टूडेंट थी। इस दौरान पर्सनल रिलेशनशिप में मुझे वॉयलेंस का सामना करना पड़ा। हालांकि, अब मैं उतनी कन्फ्यूज नहीं थी। मुझे यकीन था कि अगर वो आदमी जिसको मैं डेट कर रही हूं, अगर मुझे पीटता है तो उससे कैसे निपटना है। मैं उसे पुलिस के सामने तक ले जाना चाहती थी, लेकिन फिर मुझे अहसास हुआ कि हमारा कानून महिलाओं को लेकर कितना भेदभाव वाला है। हालांकि ये भी सही है कि इसको आप तब तक महसूस नहीं कर सकते जब तक कि इस तरह के हालात आपके साथ न बनें। बरखा ने जामिया में अपने एक साथी के साथ कुछ समय तक रिलेशनशिप में रहने का जिक्र भी किया है। वहां टेंशन में लोग स्मोकिंग करते थे। खुद को मैं वहां असहज महसूस करती थी। वजह ये थी कि न तो मैं स्मोकिंग करती थी और न ड्रिंक। वहां ये माना जाता था कि अगर आप क्रिएटिव फील्ड में हैं, तो आपको सेक्सुअल कम्प्रोमाइज कर लेने चाहिए। मैं एक सिनेमैटोग्राफर के साथ रिलेशन में आ गई, लेकिन जल्द ही महसूस हुआ कि ये मेरे लिए सही नहीं है। एक दिन जब मैंने उससे रिश्ता तोड़ देने की बात कही तो उसने रेजर से अपनी कलाई काट ली। चाहते हुए भी उस दिन मैं रिश्ता तोड़ नहीं पाई। काफी समय बाद जब रिश्ता तोडऩे का प्रयास किया तो उसने मेरा रेप करने का प्रयास किया। इसके बाद उसने मुझे बुरी तरह पीटा और दीवार से टकरा दिया। मैं यूनिवर्सिटी और पुलिस में शिकायत दर्ज कराना चाहती थी, लेकिन उस वक्त न तो रेप से जुड़े कानून थे और न इनको रोकने के लिए गाइड लाइन्स थीं। हालांकि वहां कुछ
महिलाएं प्रोग्रेसिव जरूर थीं लेकिन वो काफी प्रैक्टिकल भी थीं। इसलिए मुझे मजबूरन शांत रहना पड़ा।

यूपी में बसपा अकेले लड़ेगी चुनाव: मायावती

विधानसभा की 403 सीटों में से 90 प्रतिशत सीटों पर प्रत्याशी तय
भाजपा के साथ गठबंधन की खबरें निराधार, सपा से उनका आंतरिक गठबंधन
कांग्रेस, व अन्य किसी दल से कोई गठबंधन नहीं

लखनऊ। यूपी में पिछले एक माह से चल रहे महागठबंधन पर आज मायावती ने कहा कि बसपा यूपी में अकेले चुनाव लड़ेगी। बसपा अकेले चुनाव लडऩे में सक्षम है। बीजेपी व सपा पर निशाना साधते हुए मायावती ने कहा कि सपा व बीजेपी का आंतरिक गठबंधन है। ये एक-दूसरे को फायदा पहुंचाने के लिए काम करती हैं।
बसपा सुप्रीमो मायावती आज सुबह राज्यसभा सदन में भाग लेने जाने से पहले वहां पत्रकारों से मुखातिब हुई और उन्होंने यूपी में किसी भी दल के साथ गठबंधन कर चुनाव लडऩे की खबरों को निराधार बताया। बसपा मुखिया ने कहा कि बसपा उत्तर प्रदेश में अकेले चुनाव लडऩे में सक्षम है। इसलिए किसी के साथ गठबंधन की गुंजाइश ही नहीं है। यूपी में पार्टी अकेले ही चुनाव लड़ेगी। कांग्रेस, बीजेपी या अन्य किसी भी घटक दलों से कोई समझौता नहीं किया जायेगा। बिहार चुनाव में महागठबंधन को मिले बहुमत के बाद प्रदेश में होने वाले विधानसभा चुनाव में गठबंधन को लेकर अटकलें लगायी जा रही थी। इसी बीच सपा से भी आवाज आयी कि यदि सपा और बसपा का गठबंधन हो जाये तो सत्ता दूर नहीं। पर पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने आज इन अटकलों को खारिज करते हुए साफ किया है कि बसपा की विधानसभा चुनाव में किसी भी पार्र्टी के साथ गठबंधन की खबरें निराधार हैं। आज सूत्रों के हवाले से यह भी खबर मिली है कि बीएसपी ने विधानसभा की 403 सीटों में से 90 प्रतिशत सीटों पर प्रत्याशियों की लिस्ट तैयार हो गई है और इसकी जल्द ही घोषणा की जाएगी। इस तरह देखा जाये तो चुनाव की तैयारियों को लेकर सूबे में बसपा सभी पार्टियों से आगे हैं। अभी चुनाव में साल भर से ज्यादा का समय शेष है, पर पहले ही प्रत्याशियों की घोषणा कर बसपा ने उन्हें चुनाव के लिए जमीन तैयार करने का समय दिया है।

कोहरे के बावजूद वोटरों में दिखा उत्साह

जिलाधिकारी राजशेखर और वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक राजेश कुमार पाण्डेय सुबह से ही मतदान स्थलों का कर रहे हैं निरीक्षण
एक बजे तक सरोजनी नगर में 45 प्रतिशत और काकोरी में 44 फीसदी पड़े वोट

लखनऊ । त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के अंतर्गत लखनऊ, उन्नाव, हरदोई, सीतापुर, रायबरेली, लखीमपुर खीरी और गोण्डा में तीसरे चरण का मतदान जारी है। इन सभी जिलों में मतदान स्थलों पर सुबह सात बजे से ही वोट डालने के लिए मतदाताओं की लंबी कतार लगी हुई है। इस दौरान 27 विकास खण्डों में 39 लाख 46 हजार 284 मतदाता अपने मत का प्रयोग कर रहे हैं। इसके लिए 2504 मतदान केंद्र और 5 हजार 896 मतदान स्थल बनाए गए हैं। आज ग्राम प्रधान पद के एक हजार 933 प्रत्याशियों और ग्राम पंचायत सदस्य पद के तीन हजार 1591 सदस्यों का भाग्य मतपेटियों में बंद हो जायेगा। पंचायत चुनाव के अंतर्गत लखनऊ के हरिहरपुर पोलिंग बूथ पर दो प्रत्याशियों और उनके समर्थकों के बीच बवाल हो गया, जिसे शांत करवाने के लिए पुलिस को लाठी चार्ज करना पड़ा। प्रशासन ने सभी मतदान स्थलों पर सुरक्षा व्यवस्था के कड़े इंतजाम किए गए हैं। पुलिस व प्रशासन के अधिकारी चुनाव में व्यवधान डालने वालों के साथ कड़ाई से निपट रहे हैं।
लखनऊ में सरोजनीनगर और काकोरी ब्लाक में 126 ग्राम पंचायतों के अंतर्गत ग्राम प्रधान और पंचायत सदस्य पद के लिए मतदान जारी है। 

वोटरों में उत्साह…

सरोजनीनगर ब्लाक में 70 ग्राम पंचायतों के अंतर्गत 607 प्रत्याशी ग्राम प्रधान व पंचायत सदस्य पद के लिए चुनाव लड़ रहे हैं। इस ब्लाक में निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार 101 मतदान केंद्र और 271 मतदान स्थल बनाए गए हैं। काकोरी ब्लाक में 56 ग्राम पंचायतों में मतदान जारी है। यहां 421 प्रत्याशी चुनाव मैदान में हैं। प्रशासन ने काकोरी क्षेत्र में 60 मतदान केंद्र और 164 मतदान स्थल बनाए हैं। जिला प्रशासन की तरफ से सभी मतदान स्थलों पर सुरक्षा व्यवस्था के व्यापक प्रबंध किए गए हैं। जिलाधिकारी राजशेखर और वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक राजेश कुमार पाण्डेय सुबह से ही मतदान स्थलों का दौरा कर रहे हैं। मतदान स्थलों पर 100 मीटर की परिधि में किसी भी प्रत्याशी को पोस्टर और बैनर लगाने पर रोक है। निर्वाचन आयोग के मानकों का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जा रही है। इसके साथ ही मतदान स्थल पर नाबालिग वोटरों और फर्जी मतदाताओं पर भी कड़ी नजर रखी जा रही है।
बताया जा रहा है कि मतदान के दौरान हरिहरपुर में एक दरोगा ने फौजी को पीट दिया। इसके बाद ग्रामीणों ने जमकर उत्पात मचाया और पुलिस पर पथराव शुरू कर दिया। पुलिस ने भीड़ को शांत कराने के लिए लाठीचार्ज शुरू कर दिया। इसके बाद पथराव कर रहे लोगों को दौड़ा-दौड़ा कर पीटा। इस घटना के बाद करीब डेढ़ घंटे तक मतदान ठप रहा। पुलिस और प्रशासनिक महकमे के आला अधिकारी मौके पर पहुंच चुके हैं, उनका कहना है कि स्थिति नियंत्रण में है।

मतदान की झलकियां

  • उन्नाव में कटरी पीपलखेड़ा में फर्जी आईडी से वोट डालते चार लोगों को पुलिस ने किया गिरफ्तार।
  • लखीमपुर खीरी में शहीद दारोगा मनोज मिश्रा के पिता ने भी हरदासपुर गांव में डाला वोट।
  • उन्नाव में बांगरमऊ थाना क्षेत्र के सपुराबाद पोलिंग बूथ पर दो प्रधान प्रत्याशियों के समर्थकों के बीच मारपीट और फायरिंग, हादसे में दो लोग गंभीर रुप से घायल,अस्पताल में भर्ती
  • लखनऊ में पंचायत चुनाव के अंतर्गत हरिहरपुर मतदान स्थल पर दो प्रधान प्रत्याशियों के बीच बवाल, भीड़ ने पुलिस पर किया पथराव, पुलिस ने वोटरों पर किया लाठी चार्ज
  • इटावा में बहादुरपुर गांव में चुनावी रंजिश में पथराव, एक युवक की मौत,नाराज ग्रामीणों ने किया प्रदर्शन
  • फिरोजाबाद में मदावली गांव में चुनावी रंजिश में 2 पक्षों में ताबड़तोड़ फायरिंग,गोली लगने से आधा दर्जन लोग घायल बताये जा रहे हैं। इसमें एक व्यक्ति के मौत की भी सूचना है।
Pin It