बढ़ती ठंड के बाद भी अस्पतालों में नहीं लगे हीटर

चिकित्सालयों को कंबल के अलावा हीटर की करनी थी व्यवस्था

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। बढ़ती ठंड के साथ मौसम ने भले ही अपना रंग दिखाना शुरू कर दिया है पर अस्पतालों के वार्डों में भर्ती मरीजों को ठंड से बचाने का कोई कारगर उपाय नजर नहीं आ रहा है। हर साल की तरह इस बार भी अस्पताल प्रशासन को कम्बल के अलावा हीटर की व्यवस्था करनी थी, पर अभी तक राजधानी के तीनों बड़े अस्पतालों में इसकी व्यवस्था पूरी नहीं हो पायी है। वार्डों में अभी तक हीटर नही लगाये गयें हैं।
ठण्ड के मद्देनजर अस्पतालों में ओपीडी, वार्ड सहित कई स्थानों पर रूम हीटर व तीमारदारों के लिए अलाव जलाने की व्यवस्था होनी थी। अस्पताल प्रशासन ने इस व्यवस्था से जुड़े कर्मचारियों के साथ बैठक करके शीघ्र ही तैयारियां पूरी करने के निर्देश दिये थे। बलरामपुर अस्पताल में करीब दो सौ हीटर लगाये जाने थे। जिसके लिए इन्हें स्टोर से निकाला गया तो कई जांच में खराब निकले। इस अस्पताल की क्षमता 726 बिस्तरों की है। सूत्र बताते हैं कि ऐसे में हीटर कम पड़ सकते हैं। अस्पताल के चिकित्सा अधीक्षक डा.वीकेएस चौहान ने बताया कि पिछले साल की तरह इस बार भी जरूरत के हिसाब से हीटर लगाए जाएंगे। यदि हीटर कम पड़ेंगे, तो उनकी खरीद की जाएगी। इसके बावजूद यदि कम्बल की जरूरत पड़े तो स्टॉफ को निर्देशित किया गया है कि वह मरीज को कंबल मुहैया कराएंगे। डा. श्यामा प्रसाद मुखर्जी (सिविल) अस्पताल में अलाव के लिए लकड़ी की व्यवस्था सुनिश्चित की जा रही है। कर्मचारी बताते हैं कि नगर निगम पूरे लखनऊ में भले ही अलाव के लिए लकड़ी देता हो लेकिन यहां अस्पताल प्रशासन को ही लकड़ी खरीदनी पड़ती है। ठंड बढऩे पर तीन कुंतल लकड़ी एक दिन में जलती है। अस्पताल के प्रमुख चिकित्सा अधीक्षक डा. राजेश ओझा ने बताया कि जरूरत पडऩे पर हीटर भी लगाए जाएंगे, पहले अलाव की व्यवस्था करनी पड़ेगी। गोमतीनगर स्थित डा. राम मनोहर लोहिया संयुक्त चिकित्सालय में तीन स्थान पर अलाव जलाये जाएंगे। चिकित्सा अधीक्षक डा. ओमकार यादव ने बताया कि हीटर, अलाव समेत सभी चीजों की पर्याप्त व्यवस्था है, जबकि लोहिया अस्पताल में अभी किसी भी वार्ड में हीटर नही लगे हैं।

Pin It