बजट का अभाव बन रहा स्मार्ट सिटी की राह में रोड़ा

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क

लखनऊ। नगर निगम करोड़ों रुपये बकाया होने के चलते आर्थिक तंगी से जूझ रहा है। इसके चलते विकास कार्यों पर असर पड़ रहा है। पैसे के अभाव में कूड़ा निस्तारण के लिए कूड़ा प्लांट तक नहीं पहुंच पा रहा है, दूसरी तरफ शहर को स्मार्ट सिटी बनाने के लिए निगम अब डस्टबिन में सेंसर लगाने की तैयारी कर रहा है। इसमें नगर निगम को काफी धन खर्च करना पड़ेगा। इतना ही नहीं डस्टबिन की सुरक्षा भी महत्वपूर्ण मुद्दा है, जिसको लेकर नगर निगम के अधिकारी काफी चिन्तित हैं।
सात करोड़ रुपए निगम पर बकाया
नगर निगम पर सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट चलाने वाली कंपनी ज्योति एन्वॉयरोटेक का करीब सात करोड़ रुपए बकाया है। ऐसे में जिस क्षमता से प्लांट चलना चाहिए, उस हिसाब से नहीं चल पा रहा है। इसकी वजह से कूड़ा का निस्तारण भी नहीं हो पा रहा है, जबकि नगर निगम शहर को स्मार्ट सिटी बनाने की बात कर रहा है। जबकि सदन ने डोर टू डोर कलेक्शन चार्ज बढ़ाने से इंकार किया था। पिछले दिनों नगर निगम के सदन की बैठक हुई थी, तब इस बात का प्रस्ताव आया था कि डोर टू डोर कलेक्शन का जो भी चार्ज है, उसे बढ़ा दिया जाएगा। इससे थोड़ी आमदनी होगी और उस पैसे को कंपनी देकर प्लांट का संचालन सही से किया जा सकेगा, लेकिन ये प्रस्ताव सदन में पास नहीं हो सका। अब पैसे के अभाव में जहां प्लांट सही से नहीं चल पा रहा है, वहीं ऐसी स्थिति से जूझ रहा नगर निगम स्मार्ट सिटी के रूप में कैसे डेवलप होगा, उस पर आशंकाओं के बादल मंडराने लगे हैं।
स्मार्ट सिटी प्रपोजल में हैं कई प्रस्ताव
दरअसल स्मार्ट सिटी का जो प्लान बनाकर भेजा गया था, उसमें शहर को साफ-सुथरा बनाने के लिए न सिर्फ डोर टू डोर कूड़ा कलेक्शन करने की बात कही थी, बल्कि उन सभी कूड़ा व्हीकल में जीपीएस सिस्टम लगाने की बात भी कही थी। इसका मकसद था कि कूड़ा प्लांट में डाला जा रहा है या नहीं इसकी सही जानकारी मिल सके। वहीं करीब ६०० टन कूड़ा प्लांट में पहुंच रहा है, जबकि शहर में रोजाना करीब 1200 टन कूड़ा निकल रहा है। इसके अलावा नगर निगम ने 200 रोड स्मार्ट बिन्स के साथ-साथ रोड स्वीपिंग मशीन से भी सफाई करने की बात कही है। हालांकि, शहर की सडक़ों की हालत ये है कि सडक़ें आए दिन थोड़ी सी ही बारिश में धंस रही हैं। ऐसे में सवाल उठता है कि ये स्वीपिंग मशीन कितनी कारगर होंगी। इसके साथ नई और पुराने कम्यूनिटी टॉयलेट को अपग्रेड करने की भी तैयारी है।

Pin It