फिल्म निर्माण को बढ़ावा देने के लिए यूपी को मिला सम्मान, सहगल ने कहा यूपी है फिल्म बनाने के लिए बेहतरीन जगह

  • प्रमुख सचिव सूचना एवं अध्यक्ष फिल्म बंधु नवनीत सहगल को राष्ट्रपति  ने दिया पुरस्कार
  • ‘मोस्ट फिल्म फ्रेंडली स्टेट अवॉर्ड’ के अन्तर्गत प्रदेश को मिला स्पेशल सर्टिफिकेट

Capture4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय, भारत सरकार की तरफ से विज्ञान भवन नई दिल्ली में आयोजित 63वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार समारोह में यूपी को फिल्म निर्माण को बढ़ावा देने के लिए सम्मानित किया गया। इसमें मोस्ट फिल्म फ्रेंडली स्टेट अवार्ड के अंतर्गत उत्तर प्रदेश को स्पेशल सर्टिफिकेट दिया गया। प्रदेश सरकार की तरफ से प्रमुख सचिव सूचना एवं अध्यक्ष फिल्म बंधु नवनीत सहगल ने केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री अरुण जेटली की उपस्थिति में राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी से पुरस्कार ग्रहण किया। उन्होने इस सम्मान को मुख्यमंत्री की दूरदर्शी सोच, कला के प्रति अगाध प्रेम और प्रदेश की जनता का सम्मान बताया।
केन्द्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय की तरफ से यह अवॉर्ड फिल्म-निर्माण और उससे जुड़ी अन्य गतिविधियों को बढ़ावा देने और फिल्म निर्माताओं को उत्तर प्रदेश सरकार की तरफ से दी जाने वाली बेहतर सुविधाओं को ध्यान में रखकर दिया गया है। उत्तर प्रदेश सरकार ने फिल्म-शूटिंग के लिए सिंगल-विन्डो सिस्टम लागू करने, प्रोडक्शन एवं पोस्ट प्रोडक्शन से सम्बन्धित सुविधाएँ उपलब्ध कराने, फिल्म निर्माण को बढ़ावा देने के लिए आकर्षक फिल्म सब्सिडी (अनुदान) प्रदान करने, फिल्म-निर्माण की अनुमति के लिए डेडिकेटेड वेब पोर्टल के माध्यम से ऑनलाइन प्रक्रिया लागू करने का काम किया गया है। पुरस्कार ग्रहण करने के बाद प्रमुख सचिव सूचना नवनीत सहगल ने फिल्म अवॉर्ड प्रदान करने के लिए भारत सरकार के प्रति आभार व्यक्त किया। उन्होंने बताया कि उत्तर प्रदेश को फिल्म निर्माण का हब बनाने के लिए मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के कुशल नेतृत्व में प्रदेश सरकार ने अनेक महत्वपूर्ण कदम उठाये हैं। मुख्यमंत्री के कुशल नेतृत्व व मार्गदर्शन का ही परिणाम है कि उत्तर प्रदेश राज्य को भारत सरकार द्वारा ‘स्पेशल मेन्शन सर्टीफिकेट अवॉर्ड’ से नवाजा गया है। श्री सहगल ने बताया कि उत्तर प्रदेश में निर्मित होने वाली फिल्मों को शासनादेश में निहित आवश्यक औपचारिकताएं पूरा करने पर अधिकतम 3.75 करोड़ रुपये तक का अनुदान दिए जाने का प्राविधान किया गया है। उत्तर प्रदेश के कलाकारों के लिए स्पेशल इन्सेंटिव तथा प्रदेश में फिल्म प्रोडक्शन एवं पोस्ट प्रोडक्शन कराये जाने पर अतिरिक्त अनुदान की भी व्यवस्था की गयी है। उत्तर प्रदेश के युवा कलाकारों को अपनी प्रतिभा का विकास करने के लिए एफटीआई पुणे एवं सत्यजीत रे फिल्म एवं टेलीविजन संस्थान, कोलकाता में प्रशिक्षण के लिए छात्रवृत्ति की व्यवस्था की गई है।
श्री सहगल ने बताया कि फिल्म नीति के प्रभावी क्रियान्वयन तथा फिल्म निर्माताओं को आवश्यक सुविधायें उपलब्ध कराने के लिए प्रदेश के सभी जनपदों में जिलाधिकारियों की अध्यक्षता में ‘फिल्म-प्रमोशन एण्ड फेसेलिटेशन-कमेटी’ का गठन किया गया है। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री के कुशल मार्गदर्शन एवं प्रेरणा के कारण ही फिल्मों के निर्माण एवं अनुदान के लिए फिल्म बन्धु उत्तर प्रदेश को लगभग 150 प्रस्ताव प्राप्त हुए हैं। फिल्म बन्धु के गठन के बाद से अब तक 25 फिल्मों को अनुदान दिया जा चुका है और लगभग 15 फिल्मों को मुख्यमंत्री की तरफ से बहुत जल्द अनुदान दिया जाएगा।

Pin It