फर्जी डिग्री तो पकड़ी फर्जीवाड़ा करने वालों का पता नहीं

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। लखनऊ विश्वविद्यालय में फर्जी डिग्री मिलने का मामला आए दिन सामने आता रहता है। एलटी ग्रेड अनुदेशक शिक्षक भर्ती के लिए आवेदन की जांच के दौरान यह मामला सामने आ रहा है। बीते दिनों विंध्याचल मण्डल से आयी डिग्री बीएड व स्नातक की मिला कर कुल 114 डिग्री फर्जी निकली हैं। फर्जी डिग्री का मामला सामने आने पर इसकी फिर से जांच कराने के लिए योजना बनायी जा रही है। डिग्री को केवल जांच के भरोसे सौंप कर अपना विश्वविद्यालय अपना दामन बचा रहा है।
विश्वविद्यालय में फर्जी डिग्री तो पकड़ी जा रही है लेकिन अब तक इसे बनाने वाले रैकेट का पता नही चल पाया है। यह कोई नया मामला नही है इससे पहले भी लखीमपुर खीरी से लेकर और भी कई डिग्री आई चुकी है। फर्जी डिग्री की जांच करने के बाद परिक्षा नियंत्रक एस के शुक्ला ने इसके लिए पत्र लिख एसटीएफ की जांच की मांग की थी लेकिन पूरानी डिग्री के फर्जीवाड़ा करने वालों का अब तक पता नही चल सका है। यह मामला थमने के बजाए 114 और फर्जी डिग्री का मामला सामने आया है। विवि प्रशासन इसे रोकने के लिए कोई ठोस कदम नही उठाने के बजाए उसे नजर अंदाज कर रखा है। विवि के जिम्मेदार यह बात बखूबी जानते है कि इससे विवि की साख धूमिल हो रही है। एसटीएफ जांच भी ठण्डे बसते में जा चुकी है।
सत्यापन के दौरान सभी मार्कशीट में पाया गया कि मार्कशीट में प्रयोग किये गये कागज विश्वविद्यालय के ही है। यह बात सामने आने पर विवि के ही जिम्मेदारों की ओर शक की सूई धूम रही है। इससे पहले भी फर्जी डिग्री में विवि के कर्मचारियों के होने का संदेह था। इन सब के बावजूद विवि ने अपनी ओर से कोई जांच नही शुरु कि। केवल एसटीएफ के पत्र लिख कर खामोश बैठ गए हैं।

Pin It