प्राइवेट क्लीनिक में नहीं लग सकेगी मरीजों की भीड़, करना होगा प्रोटोकॉल का पालन

प्राइवेट क्लीनिक में नहीं लग सकेगी मरीजों की भीड़, करना होगा प्रोटोकॉल का पालन

चिकित्सकों की सलाह के लिए लेना होगा पहले से टाइम
कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए सीएमओ ने जारी किया आदेश
प्राइवेट प्रैक्टिसनर्स को फोन नंबर जारी करने को कहा

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। अब राजधानी के तमाम प्राइवेट क्लीनिकों पर मरीजों की भीड़ नहीं लग सकेगी। मरीजों को फोन के जरिए चिकित्सकों से दिखाने के लिए पहले से वक्त लेना होगा। साथ ही कोरोना संक्रमण से बचाव के प्रोटोकॉल का पालन करना होगा। सीएमओ ने इस बाबत राजधानी के सभी क्लीनिकों को आदेश जारी कर दिए हैं।
नर्सिंग होम के साथ-साथ अब प्राइवेट क्लीनिकों के लिए प्रोटोकॉल तैयार किया गया है। एक से दो डॉक्टरों वाली क्लीनिकों को कोरोना संक्रमण का बचाव कर मरीज देखने के निर्देश दिए हैं। प्रमुख सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य का सभी जनपदों में आदेश पहुंच गया है। ऐसे में सीएमओ डॉ. नरेंद्र अग्रवाल ने भी आईएमए समेत प्राइवेट प्रैक्टिसनर्स को निर्देश जारी कर दिए हैं। डॉ. नरेंद्र अग्रवाल के मुताबिक मरीजों की भीड़ क्लीनिक पर जुटाने की मनाही है। क्लीनिक संचालक एक फोन नंबर जारी करें। पुराने व नए मरीज संबंधित नंबर पर कॉल कर टाइम लें। वहीं इन मरीजों को ऐसा समय दें ताकि क्लीनिक में फिजिकल डिस्टेंसिंग मेनटेन रहे।

राजधानी में हैं 2300 क्लीनिक

राजधानी में नौ सौ के करीब रजिस्टर्ड नर्सिंग होम हैं। वहीं एलोपैथ , आयुर्वेद व होम्योपैथ की करीब 2300 क्लीनिक हैं। क्लीनिकों पर लॉकडाउन से पहले 23 से 24 हजार मरीज रोजाना देखे जा रहे थे। ऐसे में क्लीनिक पर भीड़ जुटने या किसी एक मरीज में संक्रमण होने से बड़ी आबादी में वायरस फैलने का खतरा रहेगा।

ये हैं गाइडलाइंस

  • क्लीनिक की ओपीडी में एक या दो चिकित्सक ही मरीज देखें
  • रोगियों को फोन या ऑनलाइन पहले समय देकर बारी-बारी से बुलाएं
  • क्लीनिक में प्रति घंटे चार से पांच रोगियों को ही एडवांस में समय दें
  • क्लीनिक में फिजिकल डिस्टेंसिंग, हैंड सेनेटाइजेशन की व्यवस्था हो
  • ड्यूटी पर तैनात स्टाफ कोविड-इंफेक्शन कंट्रोल में प्रशिक्षण प्राप्त हो
  • मरीजों की स्क्रीनिंग के लिए अलग से स्थान सुनिश्चित किया जाए
  • मरीज व स्टाफ सभी मास्क लगाएं हों, साथ ही कर्मी ग्लव्स आदि का प्रयोग करें
  • बायोमेडिकल वेस्ट व क्लीनिक का सेनेटाइजेशन प्रोटोकॉल के तहत किया जाए
  • कोविड से बचाव के लिए क्या करें और किन बातों का ध्यान रखें। इसके पोस्टर लगाए जाएं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *