प्रमुख सचिव चंचल तिवारी को ग्राम प्रधानों ने बनाया बंधक

  • रमाबाई अंबेडकर मैदान में प्रदर्शन कर रहे प्रधानों के साथ वार्ता करने पहुंचे थे प्रमुख सचिव
    पुलिस ने ग्राम प्रधानों पर लाठियां भांजी और भीड़ को भगाकर कराया शांत

 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
4लखनऊ। प्रमुख सचिव पंचायती राज चंचल तिवारी की मनमानी एक बार फिर उन्हीं के लिए मुसीबत बन बैठी। पंचायती राज मंत्री के आश्वासन के बावजूद मांगें पूरी न होने के नाराज ग्राम प्रधानों ने चंचल तिवारी को रमाबाई अंबेडकर मैदान में बंधक बना लिया। प्रधानों का उग्र रूप देखकर पुलिस ने जमकर लाठियां चलाईं। तब जाकर भीड़ हटी और चंचल तिवारी को बाहर निकाला जा सका। इसमें दर्जनों ग्राम प्रधान घायल हो गये। कई ग्राम प्रधानों को गंभीर चोटें भी आई हैं।
ग्राम प्रधानों को मिलने वाला मानदेय 2500 से बढ़ाकर 10 हजार करने, 14वें वित्त आयोग की धनराशि खर्च करने का अधिकार ग्राम पंचायतों को देने, पंचायतों का खर्च 20 हजार रुपये प्रतिवर्ष करने, आकस्मिक खर्च की रकम 10 हजार करने सहित अन्य मांगों को लेकर सैकड़ों प्रधान राष्ट्रीय पंचायती राज ग्राम प्रधान संगठन के बैनर तले सोमवार को रमाबाई अंबेडकर मैदान में इकट्ठा थे। वे मंत्री के आश्वासन के बावजूद कार्रवाई न होने से काफी नाराज थे। इसी बीच प्रमुख सचिव पंचायती राज चंचल तिवारी प्रदर्शनकारियों के बीच पहुंच गये। उन्होंने ग्राम प्रधानों की मांगों के बारे में खुद को सक्षम अधिकारी न होने की बात कही, तो ग्राम प्रधान नाराज हो गये। उन्होंने प्रमुख सचिव को बंधक बना लिया और वहां खड़ी दर्जनों गाडिय़ों के शीशे तोड़ डाले। इस घटना की सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंच गई। वहीं संगठन के प्रदेश अध्यक्ष सुरेश शर्मा ने कहा कि प्रमुख सचिव को ग्राम प्रधानों ने बंधक नहीं बनाया लेकिन विरोधी गुट के इशारे पर कुछ अराजक तत्वों ने माहौल बिगाडऩे का काम किया है। जो उचित नहीं है।

Pin It