प्रदेश सरकार की योजनाओं में सेंध लगाने में जुटा लखनऊ विकास प्राधिकरण

  • अपनी जेबें भरने के लालच में सुरक्षा व्यवस्था के साथ हो रहा खिलवाड़
  • अधिकारियों की अनदेखी से बढ़ रहा जनेश्वर मिश्र पार्क में गाडिय़ों का हुजूम

 अंकुश जायसवाल
2लखनऊ। प्रदेश सरकार के ड्रीम प्रोजेक्ट्स में एलडीए के अधिकारी और कर्मचारी सेंध लगाने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं। एलडीए की कार्य प्रणाली पर हमेशा से ही सवाल उठते रहे हैं। एशिया के सबसे बड़े और 376 एकड़ में फैले जनेश्वर मिश्र पार्क की सुरक्षा व्यवस्था के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है। पार्क की देखभाल में जुटे अधिकारी और कर्मचारी अपनी जेबें भरने के लालच में दुकानदारों को वाहन के साथ पार्क के अंदर घुसने की परमीशन देने लगे हैं। पार्क में गाडिय़ां और ठेले लेकर घुसने वालों की न तो चेकिंग होती है और न ही सत्यापन होता है। ऐसे में देश-विदेश से जनेश्वर मिश्र पार्क का नजारा देखने आने वाले पर्यटकों की सुरक्षा पर भी सवालिया निशान उठने लगे हैं। जो एशिया के सबसे बड़े पार्क की सुरक्षा और सरकार की शुचिता के लिए खतरनाक संकेत है।

सुरक्षाकर्मी ही कर रहे धन उगाही

जनेश्वर मिश्र पार्क और पार्क में आने वाले पर्यटकों की सुरक्षा करने के लिए सुरक्षा गार्ड तैनात किये गये हैं। लेकिन पार्क की सुरक्षा में तैनात सुरक्षा गार्ड अपना मूल काम करने के बजाय अन्य कामों में मशगूल रहते हैं। वह सुरक्षा व्यवस्था को ताक पर रखकर अपनी मनमानी करते रहते हैं। पार्क के बाहर दुकान लगाने वाले दुकानदारों को सुविधा शुल्क लेकर पार्क के अंदर सामान बेचने की अनुमति देते हैं। शासन की तरफ से पार्क के अंदर लगने वाली गाडिय़ों की आड़ में दर्जनों अन्य गाडिय़ों को अंदर करने का खेल चल रहा है। इसमें दुकानदार की जैसी गाड़ी होती है, उससे वैसा पैसा वसूला जा रहा है। इससे सुरक्षा कर्मियों और एलडीए के अधिकारियों की जेबें तो गर्म हो रही हैं लेकिन लोगों की सुरक्षा व्यवस्था के साथ खिलवाड़ हो रहा है। वहीं गाडिय़ों को अंदर घुसाने के बदले वसूले जाने वाले शुल्क का लाभ सरकार को भी नहीं मिल पा रहा है।
फास्ट फूड की गाडिय़ां पार्क की सडक़ों पर कर रहीं कब्जा

जनेश्वर मिश्र पार्क में आने वाले लोगों की संख्या दिन पर दिन बढ़ती जा रही है। शासन स्तर से परमीशन दी गई फास्ट फूड की गाडिय़ों के अलावा अवैध गाडिय़ों वाले दुकानदार पार्क के आस-पास की सडक़ों पर कब्जा कर रहे हैं। वह गाड़ी के चारों तरफ दर्जनों कुर्सी-मेज डालकर लोगों को सडक़ों पर बैठाते हैं। इससे पार्क में घूमने आने वाले लोगों को पार्क की सडक़ों पर चलने-फिरने में दिक्कतें भी होती हैं। इसके साथ ही फास्ट फूड की दुकानें और स्टाल लगने की वजह से सडक़ों पर गंदगी का अंबार लगा रहता है।

“अभी तक इसकी जानकारी मेेरे संज्ञान में नहीं थी। अगर पार्क में ऐेसी गतिविधियां चल रही हैं तो मामला गंभीर है। इसमें शामिल दोषियों को बिल्कुल भी बख्शा नहीं जाएगा। “
-अनूप कुमार
उपाध्यक्ष, एलडीए

“पिछले कई दिनों से पार्क में पैसे लेकर गाडिय़ों को अंदर किये जाने की शिकायतें मिल रही हैं और यहां की सुपरवाइजर लक्ष्मी का इस प्रकरण में संलिप्त होना बताया जा रहा है। इसलिए शीघ्र ही सुपरवाइजर लक्ष्मी के अलावा और जो कोई भी इसमें शामिल है, उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। “
-भावना सिंह
जनसंपर्क अधिकारी, एलडीए

Pin It