प्रदेश केबल ऑपरेटर्स पुरानी दरों पर ही एमएसओ को करेंगे भुगतान

  • उत्तर प्रदेश केबिल ऑपरेटर्स और मल्टी सर्विस ऑपरेटर्स की बैठक में हुआ निर्णय

Capture4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। उत्तर प्रदेश केबिल आपरेटर्स (एलसीओ) संघ और मल्टी सर्विस आपरेटर्स (एमएसओ) ने प्रति बॉक्स 15 रुपये की बढ़ोत्तरी का प्रस्ताव वापस ले लिया है। उन्होंने पुरानी दरों पर ही मासिक भुगतान का निर्णय लिया है।
ओसीआर बिल्डिंग में बुधवार को केबिल व्यवसाय की मौजूदा हालात एवं समस्याओं पर हुए बैठक के दौरान पुरानी दरों पर भुगतान देने का फैसला किया गया। इस बैठक की अध्यक्षता संगठन के संरक्षक विधायक रविदास मेहरोत्रा ने की। मेहरोत्रा ने कहा कि मौजूदा समय मेंं प्रदेश में मनोरंजन कर की अधिकतम दर 25 रुपये है। जो कि पूरे देश में लागू मनोरंजन कर के मुकाबले सबसे अधिक है। इसे लेकर कई बार शासन से अपील की जा चुकी है। लेकिन सिर्फ भरोसा ही मिला। मनोरंजन की इस अव्यवहारिक नीति से प्रदेश में केबल टीवी का व्यवसाय खत्म होता जा रहा है।
इसके अलावा एमएसओ के हर माह बिल बढ़ाने से भी मुश्किल बढ़ गई हैं। कई कंपनियों के एमएसओ ने चार माह पूर्व मासिक शुल्क में 15 रुपये प्रति बाक्स इजाफा किया था। इसके बाद दोबारा 15 रुपये प्रति बॉक्स की बढ़ोत्तरी का प्रस्ताव भेजा गया था। इसका असर केबल टीवी उपभोक्ताओं पर सीधा पड़ता है। इससे एलसीओ को केबल टीवी उपभोक्ताओं से वसूली की राशि बढ़ानी पड़ती है। उपभोक्ता नाराज होते हैं। कनेक्शन कटवाने की धमकी देने लगते हैं। जो भी उचित नहीं है। इसलिए केबिल टीवी आपरेटर्स ने प्रति बॉक्स लिये जाने वाले शुल्क में वृद्घि का कड़ा विरोध जताया है। इस बढ़ी हुई धनराशि को लेकर जब भी एमएसओ से बात की जाती है तो उनका एक ही जवाब होता है कि ब्राडकास्टर ने चैन के रेट बढ़ा दिये है। जबकि ब्रॉड कास्टर कोई दाम नहीं बढ़ाये है। ऐसे में दोनो कारणों पर विस्तार पूर्वक विचार-विमर्श करने के बाद पुरानी दरों पर ही एमएसओ को भुगतान करने का निर्णय लिया गया। इसके साथ ही विधायक ने एलसीओ की समस्याओं को सरकार तक पहुंचाने का भरोसा दिया है।

Pin It