प्रत्येक मेडिकल कॉलेज में बनेगा डेंगू व स्वाइन फ्लू के लिए अलग वार्ड

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। प्रदेश में डेंगू और स्वाइन फ्लू के बढ़ते मामले को देखते हुए प्रमुख सचिव चिकित्सा शिक्षा डॉ. अनूप चंद्र पाण्डेय ने मेडिकल कॉलेजों के प्राचार्यों के साथ बैठक की। बैठक में डेंगू व स्वाइन फ्लू के लिए हर मेडिकल कॉलेज में अलग वार्ड बनाने के निर्देश दिए।
बैठक में प्रमुख सचिव ने कहा कि सरकार स्वास्थ्य के प्रति सचेत है। सरकार की कोशिश है कि प्रदेशवासियों को बेहतर स्वास्थ्य सेवा उपलब्ध कराया जाए। इसलिए डेंगू व स्वाइन फ्लू का कोई भी मरीज मेडिकल कॉलेजों के संबद्ध अस्पतालों से निराश नहीं जाना चाहिए। इसके लिए एलीजा टेस्ट की व्यवस्था हर कॉलेज में सुचारू ढंग से सुनिश्चित की जाए। बीमारी की पड़ताल के लिए वाइरल डिटेक्शन एंड रिसर्च लैबोरेटरी (वीडीआरएल) अभी सिर्फ केजीएमयू व एसजीपीजीआइ में हैं। अब मेरठ, कानपुर, गोरखपुर और इलाहाबाद मेडिकल कॉलेजों में भी इनकी स्थापना की जाएगी। उन्होंने स्पष्ट निर्देश दिए कि हर मेडिकल कालेज में आइसीयू मजबूत किए जाएं। जरूरत के अनुरूप वेंटिलेटर बढ़ाए जाएं। इसके लिए धन की कमी नहीं पडऩे दी जाएगी किन्तु किसी तरह की लापरवाही बर्दाश्त नहीं होगी। प्रमुख सचिव ने कहा कि उपकरणों की खरीद में पारदर्शिता सुनिश्चित की जाए। अभी खरीद के दौरान शर्ते इतनी जटिल कर दी जाती हैं कि प्रतिस्पर्धा ही कम हो जाती है।

Pin It