प्रगति के लिए स्वच्छ पर्यावरण जरूरी: सीएम

  • राज्य सरकार स्वच्छता तथा पर्यावरण पर दे रही है विशेष ध्यान, ताकि
  • ‘क्लीन यूपी, ग्रीन यूपी’ का सपना साकार हो सके
  • खुले में शौच की आदत स्वास्थ्य एवं पर्यावरण के लिए ठीक नहीं

Capture4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा कि राज्य सरकार स्वच्छता तथा पर्यावरण पर विशेष ध्यान दे रही है, ताकि ‘क्लीन यूपी, ग्रीन यूपी’ का सपना साकार हो सके। उन्होंने कहा कि जिस प्रकार हम अपनी साफ-सफाई पर पूरा ध्यान देते हैं, उसी प्रकार हमें अपने घरों, गांवों, मजरों, शहरों इत्यादि की सफाई पर भी ध्यान देना होगा। हमारे स्वास्थ्य एवं प्रगति के लिए स्वच्छ पर्यावरण अत्यन्त आवश्यक है।

मुख्यमंत्री अखिलेश यादव यहां ‘पहल’ तथा ‘डेटॉल बनेगा स्वच्छ इण्डिया’ के संयुक्त तत्वावधान में होटल ताज में आयोजित ‘व्यवहार परिवर्तन-स्वच्छता हेतु परिवर्तन दूत का सृजन’ (चेन्जिंग माइन्डसेट्स-क्रिएटिंग सैनिटेशन चेन्ज लीडर्स) कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए व्यक्त किए। उन्होंने कहा कि तमाम उपलब्धियों के बावजूद खुले में शौच जाना आज भी एक गम्भीर समस्या है। उन्होंने कहा कि ग्रामीण इलाकों में शौचालयों के साथ-साथ स्नानगृहों के निर्माण के लिए 16 करोड़ रुपए की भी व्यवस्था की गई है। मुख्यमंत्री ने जागरण ‘पहल’ तथा ‘डेटॉल बनेगा स्वच्छ इण्डिया’ द्वारा किए जा रहे इस प्रयास की सराहना करते हुए कहा कि इस अभियान के अन्तर्गत उत्तर प्रदेश के 100 गांवों का चयन किया गया है, कार्यक्रम को संबोधित करते हुए पूर्व केन्द्रीय मंत्री श्री जयराम रमेश ने कहा कि स्वच्छ भारत तभी सम्भव है, जब देश की ढ़ाई लाख पंचायतें खुले में शौच से मुक्त हो जाएं। कार्यक्रम को दैनिक जागरण के प्रधान सम्पादक संजय गुप्ता, आनन्द माधब, नीतिश कपूर, हरियाणा के गोमला गांव के सरपंच राधेश्याम गोमला, स्वामी चिदानन्द सरस्वती महाराज, वल्र्ड टॉयलेट आर्गेनाइजेशन के संस्थापक जैक सिम, अभिनेत्री सुश्री विद्या बालन ने भी सम्बोधित किया। इससे पूर्व, कार्यक्रम का उद्घाटन मुख्यमंत्री ने दीप प्रज्ज्वलित कर किया। कार्यक्रम में स्वास्थ्य मंत्री अहमद हसन, राजेन्द्र चौधरी, अवधेश प्रसाद तथा मनोज कुमार पाण्डेय, प्रमुख सचिव सूचना नवनीत सहगल सहित भारी संख्या में लोग उपस्थित रहे।

Pin It