पोस्टर से जेएनयू का माहौल बिगाडऩे की कोशिश

कश्मीर की आजादी की मांग और भारत को जेल बताने वाले पोस्टर को लेकर 4 छात्रों से पूछताछ

Capture4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
नई दिल्ली। जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में शनिवार को फिर नए देशविरोधी पोस्टर्स देखने को मिले हैं। इन पोस्टर्स को 12 मार्च तक न हटाने की अपील भी की गई है। देश विरोधी पोस्टर लगाने को लेकर दिल्ली पुलिस ने यूनिवर्सिटी के 4 छात्रों से पूछताछ की है।
जेएनयू में लगे नए पोस्टर्स में कश्मीर की आजादी का जिक्र किया गया है। इन पोस्टर्स में भारत को जेल बताया गया है। हालांकि पोस्टर्स पर किसी भी संगठन का नाम नहीं है। पुलिस ने बेर सराय में एक फोटोस्टेट दुकान के मालिक से भी पूछताछ की है। ऐसा माना जा रहा है कि जेएनयू में लगे राष्टï्रविरोधी पोस्टर्स इसी दुकान से फोटोकॉपी करवाए गए थे।

कन्हैया, उमर और अनिर्बान से पूछताछ में खुलासा
सूत्रों की माने तो इस मामले में दिल्ली पुलिस की कन्हैया, उमर खालिद और अनिर्बान भट्टाचार्य से पूछताछ में यह सामने आया कि जो देशविरोधी पैम्फलेट दिखाए और चिपकाए गए थे, वे ओल्ड जेएनयू कैंपस के सामने फोटो स्टेट की दुकान से करवाए गए थे। इसके बाद दिल्ली पुलिस शुक्रवार देर रात फोटोस्टेट मार्केट पहुंची और एक दुकानदार को पूछताछ के लिए अपने साथ ले गई। फिलहाल दुकानदार से भी पूछताछ जारी है। दिल्ली पुलिस के सूत्रों के मुताबिक ही पुलिस बेर सराय इलाके में रहने वाले 4 जेएनयू छात्रों से भी पूछताछ कर रही है।
जेएनयू में देश विरोधी नारेबाजी के आरोपी छात्रों में से एक आशुतोष कुमार ने आज पुलिस के सामने सरेंडर कर दिया है। वहीं दो छात्रों, उमर खालिद और अनिर्बान, की पुलिस रिमांड आज खत्म हो रही है। आशुतोष से आरके पुरम थाने में पूछताछ चल रही है। जेएनयू में 9 फरवरी को नारेबाजी के मामले में छह छात्रों पर देशद्रोह का आरोप लगा था। इनमें से अब चार पुलिस की गिरफ्त में है जबकि दो की तलाश अब भी पुलिस को है। पुलिस को रामा नागा और अनंत प्रकाश नारायण की तलाश है।

कन्हैया कुमार को अज्ञात जगह ले जाया गया
देशद्रोह के आरोप में गिरफ्तार जेएनयू छात्र संघ के अध्यक्ष कन्हैया कुमार को एक दिन की पुलिस हिरासत में भेजे जाने के बाद दिल्ली पुलिस की एक टीम उसे तिहाड़ जेल से अज्ञात जगह ले गई है। कन्हैया को किस जगह ले जाया गया है उसका खुलासा किये बिना एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया ‘छात्र नेता को पूछताछ के लिए रात में साढ़े आठ बजे तिहाड़ जेल से ले जाया गया।’ कन्हैया को 12 फरवरी को अरेस्ट किया गया था।

Pin It