पुस्तक मेले में 4 पीएम के स्टॉल पर आए राज्यपाल, अखबार के तेवर को सराहा

दस दिवसीय राष्ट्रीय पुस्तक मेले का राम नाईक ने किया उद्घाटन, कहा-असली ज्ञान मिलता है किताबों से
वीक एंड टाइम्स अखबार और पाक्षिक प्रतियोगी पत्रिका नया लक्ष्य को भी सराहा
महिला सशक्तिकरण की थीम पर आधारित है मेला

capture4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। राजधानी के मोती महल लॉन में आयोजित 14वें राष्टï्रीय पुस्तक मेले का राज्यपाल राम नाईक ने शुक्रवार को उद्घाटन किया। इस मौके पर राज्यपाल नाईक सांध्य दैनिक 4 पीएम, साप्ताहिक वीकएंड टाइम्स अखबार और पाक्षिक प्रतियोगी पत्रिका नया लक्ष्य के स्टाल पर पहुंचे और इनकी सराहना की। उन्होंने 4 पीएम और वीकएंड टाइम्स की तारीफ करते हुए कहा कि इन अखबारों में छपने वाली खबरें तथ्यात्मक, सधी हुई और निष्पक्ष होती हैं। खबरों की हेडिंग शानदार और धारदार होती हैं। उन्होंने पाक्षिक प्रतियोगी पत्रिका नया लक्ष्य की सराहना करते हुए कहा कि यह पत्रिका न केवल प्रतियोगी परीक्षा देने वाले विद्यार्थी बल्कि आम जनों के लिए भी बेहद उपयोगी है। प्रतियोगिता के दौर में इस तरह के अखबार और पत्रिका का होना बेहद जरूरी है।

दस दिवसीय मेले के उद्घाटन मौके पर श्री नाईक ने कहा कि प्रतियोगिता के दौर में ज्ञान का होना बेहद जरूरी है। आज की युवा पीढ़ी इलेक्ट्रॉनिक साधनों पर ज्यादा निर्भर है, लेकिन इससे सिर्फ जानकारी उपलब्ध होती है। असली ज्ञान आज भी किताबों से ही मिलता है। इस बार मेले की थीम महिला सशक्तिकरण पर है। श्री नाईक ने कहा कि महिला सशक्तिकरण की आज जरूरत बहुत है। रोज सुबह जब अखबार पढ़ता हूं तो रेप की घटनाओं की सूचना होती है। सोचता हूं कैसे मनुष्य राक्षस बनता जा रहा है। उन्होंने कहा कि रेप, दहेज, प्रताडऩा, भ्रूण हत्या जैसी घटनाएं समाज पर कलंक हैं। उन्होंने कहा कि महिलाओं के शोषण की घटनाएं बढ़ती जा रही हैं। यह देश के लिए अच्छा नहीं है।

बच्चों के लिए किताबें
पुस्तक मेले में बच्चों से लेकर बुजुर्गो तक के लिए किताबों से लेकर गेम्स तक मौजूद है। बच्चों में साहित्य के प्रति रुचि जगाने के लिए मनोरंजक किताबों के साथ दिमाग को तेज करने वाले गेम जैसे टैनग्राम, पिरामिड, स्माइली, डायमंड पजल मौजूद है।

पुस्तक मेले में 170 स्टॉल
पुस्तक मेले में इस बार 170 स्टाल लगाए गए हैं। मेले में प्रधानमंत्री मोदी पर आधारित धर्मेन्द्र कुमार की किताब ‘ब्रांड मोदी का तिलिस्म‘ भी मौजूद है, जिसमें मोदी के राजनीतिक सफर और उनसे जुड़ी कई बातों का जिक्र है। इसके साथ ही राजपाल प्रकाशन में सआदत हसन मंटो की कई पुस्तकें मौजूद हैं। पाट्रिक मोदियानो की ‘मैं गुमशुदा, डेविड फोइन्किनोस की ‘नजाकत, रस्किन बांड की ‘अंधेरे में एक चेहरा एवं पाकिस्तानी शायरा हुमैरा राहत का शायरी संग्रह ‘पांचवी हिजरत के प्रति पाठकों में खास आकर्षण दिखा। मेले में राज्यपाल राम नाईक की किताब ‘चरैवेति चरैवेति‘ हिंदी, उर्दू, अंग्रेजी व मराठी में उपलब्ध है।

Pin It