पीजी की काउंसिलिंग के पहले दिन सीटें हुई फुल

  • अव्यवस्था की वजह से दो घंटा विलंब से शुरू हुई काउंसिलिंग प्रक्रिया

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। लखनऊ विश्वविद्यालय में बुधवार को परास्नातक की काउंसिलिंग के पहले ही दिन सारी सीटें फुल हो गई। इस बार पीजी की काउंसिलिंग एक स्थान पर करने के बजाए सभी विभागों में कराई गई। वहीं काउंसिलिंग के बीच-बीच में कुछ समस्याओं का सामना विभागाध्यक्षों को करना पड़ा।
विश्वविद्यालय में बुधवार को एमएससी, फिजिक्स, केमिस्ट्री, मैथ्स, बॉटनी, जेमोलॉजी, जूलॉजी के अलावा अन्य विषयों में पीजी के कोर्स की काउंसिलिंग शुरू कराई गई थी। इस बार जिस विषय में छात्रों ने आवेदन किया था। उसी विभाग में छात्रों की काउंसिलिंग का इंतजाम कराया गया था। जहां छात्रों को पूरी सुविधा दी गई।
निर्धारित समय से नहीं शुरू हुई प्रक्रिया
छात्रों की काउंसिलिंग के लिए रिपोर्टिंग टाइम 9 बजे रखा गया था, जिसके पश्चात छात्रों के डॉक्युमेंट वेरीफिकेशन की प्रक्रिया पूरी करानी थी, लेकिन निर्धारित समय से करीब दो घंटे बाद वेरीफिकेशन प्रक्रिया शुरू हो पाई। प्रक्रिया में हुई देर का कारण जिम्मेदारों ने स्लो कनेक्टीविटी को बताया।
सीजीपीए के कारण आई समस्या
भू-गर्भ विज्ञान विभाग के विभागाध्यक्ष प्रो. विभूती राय ने बताया कि काउंसिलिंग के दौरान सीजीपीए कैटेगरी के कारण समस्याएं उत्पन्न हुई। कुछ विश्वविद्यालय ने मार्कशीट पर अंकित कर दिया था कि इससे इतने से गुणा करने पर योग निकाला जाए, लेकिन कुछ ने नहीं किया था,जिसके कारण थोड़ी समस्याएं आई। उन छात्रों के अंकों का योग निकालने के लिए भी हमें दूसरे विवि के पैर्टन को फॉलो करना पड़ा। इन समस्याओं के बाद भी एक दिन में ही काउंसिलिंग पूरी हो गई।
जेमोलॉजी में आवेदन का अखिरी मौका 5 अगस्त तक
लखनऊ विश्वविद्यालय में बीवोक जेमोलॉजी में प्रवेश के लिए 5 अगस्त तक आवेदन किए जा सकते हैं। प्रवेश के लिए आवेदन फॉर्म डायरेक्ट जियॉलजी विभाग से ले सकते हैं। विश्वविद्यालय ने इस कोर्स में प्रवेश के लिए आवेदक लिए कई सहूलियत दे रखी है। कोर्स में किसी भी उम्र व किसी भी विषय वर्ग के छात्र प्रवेश ले सकते हैं। लेकिन वहीं आवेदन मान्य होगें, जिनके 12वीं में 50 प्रतिशत अंक होंगे।

Pin It