पालीटेक्निक छात्रों की समस्या जस की तस

 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। पॉलीटेक्निक के छात्रों की समस्या जस की तस बनी हुई है। छात्रों के रिजल्ट में सुधार करना तो दूर उसमें सुधार का आश्वासन भी देना जिम्मेदार जरुरी नही ंसमझ रहे हैं। हालात तो यह है कि उनकी समस्या को दूर करने के बजाए विभाग के जिम्मेदार उन्हें मानसिक और पुलिस वालों से शारीरिक यातनाएं देने से भी बाज नहीं आ रहे हैं। प्राविधिक शिक्षा बोर्ड के बाहर छात्रों की संख्या कम होने के बजाए बढ़ती ही जा रही है।
रिजल्ट निकलने के बाद से ही छात्रों का हुजूम प्राविधिक शिक्षा बोर्ड के बाहर लगा हुआ है। लगभग तीन माह हो रहा है लेकिन छात्रों की समस्या का समाधान नहीं हो रहा है। विभाग के सहायक प्राचार्य का कहना है कि अधिकतर रिजल्ट में सुधार किया जा चुका है और जल्द ही बाकी के रिजल्ट में भी सुधार किया जाएगा। वहीं छात्रों की उमड़ी भीड़ ने जिम्मेदारों के इस दावे पर सवाल खड़ा कर दिया है। यदि अधिकतर रिजल्ट में सुधार हो चुका है तो विभाग के बाहर भीड़ अब तक कम हो जानी चाहिए थी। छात्रों की भीड़ घटी नहीं बल्कि और बढ़ती ही जा रही है।
छात्रों का कहना है कि यदि ऐसी गति से यह काम करेगें तो हमारा यह साल पूरी तरह से बरबाद हो जाएगा। उसके बाद भी इस बात की गारंटी नही हैं कि हम पास ही है। इतने इंतजार के बाद यह पता चले की हम फेल है तो हम अंक सुधार भी नही भर सकेगें। उसका भी समय निकल जाएगा। छात्र सहायता के लिए परेशान इधर-उधर भटक रहे हैं। जिम्मेदारों ने छात्रों की हेल्प के लिए कोई नम्बर तक नही जारी किया है। सौरभ शर्मा का कहना है कि प्रतिदिन सुल्तानपुर से यहां आना पड़ता है। यदि कोई नम्बर विभाग के लोग उपलब्ध करा दें तो हम लोग उसे फोन पर पता कर सके।

Pin It