पाकिस्तान की दोमुंही बात

भारत सरकार ने यदि पाक दल को जांच के लिए आने दिया, तो यह सबूत है कि भारत आतंकवाद को खत्म करने और पाकिस्तान के प्रति अच्छे रिश्ते को लेकर संजीदा है। यह भारत सरकार के सकारात्मक रवैये को दिखाता है। पर पाकिस्तान में लीक हुई रिपोर्ट इस पर पानी फेरती नजर आती है।

sanjay sharma editor5पठानकोट हमले की जांच के लिए पाक से आयी उच्चस्तरीय संयुक्त जांच टीम (जेआइटी) की पाक मीडिया में लीक हुई रिपोर्ट में यह बात सामने आई है कि पठानकोट एयरबेस पर आतंकी हमला पाकिस्तान को बदनाम करने की साजिश थी और इसे भारत का ड्रामा बताया गया है। पर सोचनीय बात यह है कि कोई देश अपने जवानों का बलिदान किसी दूसरे देश को बदनाम करने के लिए क्यों करेगा। ऐसे में यह पाकिस्तान के हास्यास्पद रवैये को दिखाता है।
शिवसेना, कांग्रेस और आम आदमी पार्टी जैसे दलों की आपत्तियों के बावजूद भारत सरकार ने यदि पाक दल को जांच के लिए आने दिया, तो यह सबूत है कि भारत आतंकवाद को खत्म करने और पाकिस्तान के प्रति अच्छे रिश्ते को लेकर संजीदा है। यह भारत सरकार के सकारात्मक रवैये को दिखाता है। पर पाकिस्तान में लीक हुई रिपोर्ट इस पर पानी फेरती नजर आती है। लेकिन बड़ी बात यह है कि अभी इस मामले पर कोई आधिकारिक प्रतिक्रिया नहीं आई है। यह पाक सरकार की चुप्पी और आतंकवाद को लेकर उसके दोहरे रवैये को फिर बेनकाब करता है। भारत में इससे पहले हुए कई आतंकी हमलों में पाकिस्तान में बैठे आतंकी सरगनाओं के हाथ की पुष्टि हो चुकी है। भारत ने पाक को ठोस सबूत भी सौंपे हैं, पर हर बार पाकिस्तान का ढुलमुल रवैया ही सामने आता रहा है।
ऐसे हालात में पाकिस्तान के साथ रिश्ते बेहतर बनाने को लेकर भारत को निश्चित रूप से और अधिक सतर्क होने की जरूरत है। हालांकि पाकिस्तान के जिस अंग्रेजी अखबार में यह खुलासा हुआ है उससे साफ पता चलता है कि यह भारत के प्रति नफरत और चीन के प्रति सहानुभूति पैदा करना चाहता है। इसलिए यह उम्मीद की जानी चाहिए की यह रिपोर्ट सही नहीं हो और भारत पाकिस्तान के बीच रिश्तों में मधुरता बनी रहे। पर पाकिस्तान के पहले के रवैये से यह साफ है कि वह कभी भी अपनी बात से फिर सकता है। यह पाक की दोमुंही बात करने की आदत रही है। ऐसे में भारत को अपने कदम फूंक-फूंक कर रखने होंगे।

Pin It