पाकिस्तान का दोगलापन

भारत ने साफ कर दिया है कि इसमें पाकिस्तान का हाथ है। केन्द्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि पठानकोट हमले में पाकिस्तान के हाथ होने के सुबूत मिले हैं। पंजाब में छह महीने के भीतर यह दूसरा हमला है। खूफिया एंजेसियों ने पहले ही इसकी चेतावनी दी थी कि नए साल पर आतंकी हमला हो सकता है।

sanjay sharma editor525 दिसंबर को जब अचानक प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पाकिस्तान पहुंचे और नवाज शरीफ को जन्मदिन की बधाई और तोहफा दिया तो किसी ने सपने में नहीं सोचा था कि नवाज शरीफ इतनी जल्दी भारत को अपने जन्मदिन का रिटर्न गिफ्ट वापस करेंगे। एक हफ्ते में ही पाकिस्तान ने अपनी औकात दिखा दी। जिस उम्मीद और हौसले के साथ प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पाकिस्तान अपने दल-बल के साथ गए और जिस गर्मजोशी से नवाज शरीफ से मिले और जिस तरह का माहौल दिखा था, उससे यही प्रतीत हो रहा था कि भारत-पाक के रिश्ते पर जमी बर्फ पिघलने लगी है। लेकिन शनिवार को पठानकोट के एयरफोर्स बेस पर हुए आतंकी हमले के बाद से स्पष्टï हो गया कि पाकिस्तान सुधरने वाला नहीं है।
भारत ने साफ कर दिया है कि इसमें पाकिस्तान का हाथ है। केन्द्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि पठानकोट हमले में पाकिस्तान के हाथ होने के सुबूत मिले हैं। पंजाब में छह महीने के भीतर यह दूसरा हमला है। खूफिया एंजेसियों ने पहले ही इसकी चेतावनी दी थी कि नए साल पर आतंकी हमला हो सकता है। खैर सेना और स्थानीय पुलिस ने आतंकी हमले को नाकाम कर दिया नहीं तो यह बड़ी घटना साबित हो सकती थी। क्योंकि आतंकवादी भारी मात्रा में आरडीएक्स लेकर आए थे। आतंकवादी किसी बड़ी घटना को अंजाम देने के मंसूबे से आए थे। अधिकारियों की माने तो यह हमला जैश ए मोहम्मद ने किया और इसका उद्देश्य सैन्य प्रतिष्ठानों को नष्ट करना था। इस मुठभेड़ में चार आतंकी मारे गए। गोलीबारी में दो जवान शहीद हो गए और छह घायल हो गए हैं। पिछले छह महीने के भीतर पंजाब में यह दूसरी आतंकी घटना है।
यहां सवाल उठता है कि जब आंतकी हमले की चेतावनी खूफिया तंत्र ने पहले ही दे दी थी तो आखिर एयरबेस तक आतंकी पहुंच कैसे गए। आतंकी सेना की वर्दी पहनकर आए थे ताकि उनकी पहचान न हो सके। खूफिया तंत्र की सूचना के बावजूद आतंकी देश में घुस आए और एयरबेस तक पहुंच गए, यह कहीं न कहीं हमारी सुरक्षा व्यवस्था में चूक की वजह से है। सुरक्षा व्यवस्था में खामी की वजह से ही आतंकी यहां तक पहुंचने में कामयाब हो पाए। पाकिस्तान सीमा से सटे राज्यों में तो सुरक्षा व्यवस्था के पुख्ता इंतजाम होने ही चाहिए ताकि आतंकी सेंध मारी न कर पाए।

Pin It