पश्चिमी उत्तर प्रदेश में अमित शाह की रैली खुफिया तंत्र की निगाह भाजपा नेताओं पर

  • शाह ने कहा गायत्री प्रजापति और यादव सिंह जैसे लोग लूट रहे हैं यूपी के खजाने को
  • अमित शाह ने पश्चिमी उत्तर प्रदेश में कार्यकर्ताओं को दिया जीत का मंत्र
  • खुफिया एजेंसियों को आशंका, पश्चिमी उत्तर प्रदेश में हिन्दुत्व की प्रयोगशाला से बढ़ सकता है तनाव

संजय शर्मा
aaa2लखनऊ। मेरठ में आज भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के भाषण पर सिर्फ बीजेपी के कार्यकर्ताओं की निगाह ही नहीं लगी रही बल्कि प्रदेश के खुफिया तंत्र के बड़े अफसर भी बारीकी से अमित शाह के एक-एक कदम को बड़े गौर से देख रहे खुफिया तंत्र को पुख्ता जानकारी मिली है कि भाजपा पश्चिमी उत्तर प्रदेश में चुनाव से पहले हिन्दुत्व की धार तेज करने के लिए साम्प्रदायिक धु्रवीकरण कर सकती है। आज अमित शाह की मेरठ रैली में खास तौर से खुफिया तंत्र के कुछ अफसरों को लगाया गया है, जो न सिर्फ अमित शाह की रैली पर बल्कि अमित शाह की बैठकों पर भी बारीकी से निगाह रख रहे हैं, जिससे वह भाजपा की इस प्रयोगशाला पर नियंत्रण रख सकें। उधर अमित शाह ने आज अपने भाषण में सबसे पहले कांग्रेस पर तीखा हमला करके सबको चौका दिया। अब तक वह सबसे पहले सपा पर ही तीखा हमला बोलते थे।
अमित शाह ने आज की रैली में बोलते हुए कहा कि सिर्फ भाजपा ही ऐसी पार्टी है जहां कार्यकर्ता अध्यक्ष बनता है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के युवराज को गर्मी लगती है इसलिए वह देश को छोडक़र विदेश चले गए हैं। उन्होंने कहा कि कांग्रेस में कार्यकर्ता अध्यक्ष नहीं बन सकता। अध्यक्ष बनने के लिए उसे गांधी परिवार में जन्म लेना होगा।
श्री शाह ने कहा कि यहीं हाल सपा और बसपा में है। भविष्य में सपा का अध्यक्ष मुलायम सिंह का पोता ही होगा। बसपा में भी मायावती के अलावा कोई अध्यक्ष बनने की सोच भी नहीं सकता। उन्होंने बूथ कार्यकर्ताओं को संबोंधित करते हुए कहा कि बूथ कार्यकर्ताओं के दम पर ही भाजपा चुनाव जीतती है और भाजपा ही अपने कार्यकर्ताओं के दम पर सबसे बड़ी पार्टी है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने दस साल में बारह लाख करोड़ का घोटाला किया, जबकि मोदी जी ने देश को भ्रष्टïचार मुक्त सरकार दी और दो साल तक कोई घोटाला नहीं होने दिया।

किसानों ने दिखाए काले झंडे

अमित शाह के कार्यक्रम के दौरान किसानों ने काले झंडे दिखाए। किसानों का कहना है कि जिस स्थान पर यह सम्मेलन हो रहा है उसके मालिक अतुल सिंह पर किसानों का बकाया पैसा है। इसलिए किसान मजदूर संगठन से जुड़े किसानों ने अमित शाह की सभा के बाहर काला झंडा दिखाया। दरअसल बीजेपी का सम्मेलन डीपीएस के मैदान में हो रहा है। यह स्कूल बीजेपी नेता अतुल सिंह का है, जिन पर किसानों की तरफ से बकाया नहीं देने का आरोप लगाया जा रहा है। किसानों ने अमित शाह के कार्यक्रम के मद्देनजर पहले से ही विरोध की तैयारी कर ली थी। किसानों की योजना हाईवे पर काला झंडा दिखाने की थी आखिरकार डीपीएस मैदान के बाहर किसानों ने काला झंडा लहराकर अपना विरोध जताया।

Pin It