नोटबंदी पर आरबीआई गवर्नर उर्जित से पीएसी ने मांगा जवाब

दस से अधिक सवालों पर देना होगा जवाब

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
captureनई दिल्ली। अब नोटबंदी के फैसले पर रिजर्व बैंक के गवर्नर उर्जित पटेल निशाने पर आ गए हैं। नोटबंदी पर बैंक की भूमिका और विमुद्रीकरण की प्रक्रिया के बारे में संसद की लोक लेखा समिति (पीएसी) ने पटेल को नोटिस भेजकर सवालों के जवाब मांगे हैं। पटेल 20 जनवरी से पहले समिति में पेश होंगे ।
पीएसी ने अपने नोटिस में केंद्रीय बैंक के प्रमुख से नोटबंदी के फैसले को विस्तार से बताने के साथ अर्थव्यवस्था पर इसके असर की जानकारी मांगी है। समिति ने पटेल को 20 जनवरी से पहले समिति के समक्ष पेश होने को कहा है। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता केवी थॉमस की अध्यक्षता वाली समिति ने उर्जित पटेल से बैंकों में वापस आई मुद्रा की कीमत की भी जानकारी मांगी है। पूछा गया है कि इस प्रक्रिया में कितना कालाधन बैंकों में जमा हुआ है। केवी थॉमस ने आरबीआई के गवर्नर से देश को कैशलेस व्यवस्था में डालने के लिए बैंक की तैयारियों का भी ब्यौरा मांगा है। थॉमस का कहना है कि समिति ने गवर्नर को दिसंबर में ही समिति के समक्ष पेश होने फैसला किया था। गौरतलब है कि प्रधानमंत्री द्वारा नोटबंदी के लिए 50 दिन का समय मांगने की वजह से समिति ने अपना विचार जनवरी माह तक के लिए टाल दिया था। चूंकि वे इसे कोई राजनीतिक रंग नहीं देना चाहते थे, इसलिए उन्होंने अपना विचार आगे तक के लिए टाल दिया था। नोटबंदी के दौरान हुई लोगों की परेशानी को लेकर कई संसदीय समितियों ने पटेल से जवाब-तलब किया है।

Pin It