नाकारा अफसरों ने बर्बाद कर दिया इंजीनियरिग के छात्रों का भविष्य

एकेटीयू में भयंकर धांधली की शिकायत के बीच हटाए गए कंट्रोलर,
एफआईआर दर्ज, एसटीएफ करेगी जांच

छात्रों की कापियां बिना जांचे कर दिया गया फेल
वीसी के पैसे मांगने का ऑडियो हुआ वायरल
दर्जनों छात्र आज पहुंचे मंत्री से मिलने और बताई शिक्षकों और अफसरों की कारगुजारी

M1हिना खान
लखनऊ। डॉ. ऐपीजे कलाम टेक्निकल यूनिवर्सिटी जो कभी अपनी बेहतर पढ़ाई के लिए मानी जाती थी, अब धांधलियों और शिक्षकों के साथ-साथ अब भ्रष्टïाचार का केन्द्र बन गई है। छात्रों को फेल करके उनसे अवैध वसूली का मामला सामने आया है। छात्रों ने प्राविधिक शिक्षा मंत्री फरीद महफूज किदवई से मुलाकात करके उन्हें पूरी जानकारी दी जिसके बाद मंत्री ने कड़ा फैसला लेते हुए एग्जाम कंट्रोलर वीएन मिश्रा को हटाकर एफआईआर दर्ज करा दी। और जांच एसटीएफ को सौंपने के आदेश दे दिए हैं।
डॉ एपीजे अब्दुल कलाम यूनिवर्सिटी ने 86 छात्रों के भविष्य को दांव पर लगा रखा है। छात्रों को इंसाफ के लिए कभी मंत्री तो कभी राज्यपाल का दरवाजा खटखटाना पड़ रहा है। कई महीनों से इन छात्रों के हाथ निराशा ही लग रही है। छात्रों की माने तो समस्या हल करने के लिए यूनिवर्सिटी के कुलपति इससे अपनी जेबें गर्म करने की योजना बना रहे हैं। इसी इंसाफ की उम्मीद में छात्र कल फिर विवि में पूरी रात डटे रहे।
कल यूनिवर्सिटी में छात्रों को उनकी कापियां दिखाने व उन्हीं के सामने जांचने के लिए बुलाया गया था। जब छात्र यूनिवर्सिटी पहुंचे तो कापियां दिखाने का सिलसिला शुरू हुआ, जिसमें तीन छात्र पास भी हुए। स्टूडेंट के पास होते ही विवि के जिम्मेदारों ने बाकी छात्रों को कॉपियां दिखाने से मना कर दिया, जिस पर छात्रों ने जम कर हंगामा किया।
बताते चलें कि छात्रों ने अपनी इन्हीं समस्या को लेकर दस नवम्बर को छात्रों ने प्राविधिक शिक्षा मंत्री फरीद किदवई से इंसाफ की गुहार लगाई थी, जिस पर मंत्री ने 15 छात्रों का रोल नम्बर लेकर विश्वविद्यालय को सौंपा था। साथ ही यह भी निर्देश दिया था की इन छात्रों की कॉॅपियां दिखाई जाएं। छात्रों की इस जिद पर विवि के कुलपति ने भी छात्रों को चैलेंज देते हुए कहा कि यदि एक भी छात्र की कॉपी सही निकली और वह पास हो गया तो हम सभी छात्रों की कापियां दोबारा चेक कराएंगे। कल स्टूडेंट्स को पास होता देख विवि ने कापियां दिखाना बंद कर दिया। छात्रों का आरोप है कि पहले भी इसी तरह हम लोगों को कॉपियां दिखाने के लिए बुलाया जा चुका है। जैसे ही इनकी कमियां हमारे सामने आती है यह लोग प्रक्रिया बंद कर देते हैं। जब हम लोग इसके लिए धरना देते हैं तो दूसरी तारीख दे दिया जाता है। आज भी यही हो रहा है।
कापियों पर नम्बर नहीं फिर भी छात्र फेल
स्टूडेंट्स ने यह भी आरोप लगाया कि विश्वविद्यालय की लापरवाही तब सामने आयी जब हम लोगों ने कापियां देखी, जिसमें किसी भी कॉपियों पर कोई नम्बर नहीं चढ़ा है। बिना नम्बर दिये जिम्मेदार लोगों ने हमें फेल कर दिया है। नाम न छापने की शर्त पर एक शिक्षक का कहना है कि मैंने एक छात्र की कापी देखी है, जिसमें बहुत बारीकी से जांच करने पर पासिंग नम्बर तो मिलना ही चाहिए था। विवि प्रशासन व जिम्मेदार अपनी कमियों को छिपाने के लिए कई छात्रों पर यह आरोप लगा रहे हैं कि छात्र शराब पी कर यूनिवर्सिटी में हंगामा करते हैं। यह वह छात्र हैं जिन्हें यूनिवर्सिटी से निकाला गया है, जबकि छात्रों का कहना है कि हम लोंग इनसे अपने भविष्य को बचाने की गुहार लगा रहे हैं और यह लोग हम सब को अनुशासनहीन साबित करने पर तुले हुए हैं। जब छात्रों ने शिक्षक से सवाल किया की वह किस कॉलेज के हैं और उनकी आइडी कहां हैं, तो इस सवाल पर शिक्षक के गलत जवाब देने पर आक्रोशित छात्रों ने जमकर बवाल काटा।

दोषियों के खिलाफ होगी कड़ी कार्रवाई: किदवई
प्राविधिक शिक्षा मंत्री फरीद महफूज किदवई ने कहा है कि यूनिवर्सिटी की गरिमा खराब करने वाले और छात्रों का भविष्य खराब करने वालों के खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि छात्र उनसे मिले थे और वहां के सारे हालात बताए। विश्वविद्यालय में बहुत अनियमिताएं हैं और यह बेहद दुखद है, अब इन हालातों को और बर्दाशत नहीं किया जाएगा। परीक्षा में हुई धांधलियों की जांच एसटीएफ को सौंपने के आदेश दे दिए गए हैं।

पूरी रात छात्र रहे इंसाफ के इंतजार में
कापियां न दिखाने पर पूरी रात छात्र-छात्राएं विवि परिसर में धरना दिए रहे। रात में छात्रों को काबू में रखने के लिए पुलिस व एडीएम का सहारा लिया गया। छात्रों का कहना है कि हम लोगों से विवि की तरफ से जो भी मांग की जा रही है। हम लोगों ने उसे पूरा किया है लेकिन फिर भी आरोप लगाया जा रहा है। यह लोग अपनी बात पर अड़े हुए हैं कि किसी को पास नहीं किया जाएगा।

फोटो नं. 1: जब फेल घोषित छात्रों की कॉपी में वह पास पाए गए तो बाकी छात्रों को खुशी से आशा जगी कि वह भी पास होंगे।
फोटों नं. 2: जब एक फर्जी अध्यापक को छात्रों ने पकड़ लिया तो छात्रों ने उसकी जमकर धुनाई कर दी।
फोटो नं. 3: छात्रों ने कापियां दिखाई जिसमें उन्हें कोई नंबर ही नहीं दिया गया।

Pin It