नये सूरज का उदय

राज्य सरकार व केन्द्र सरकार के बीच हुआ तारीफों का सिलसिला जारी

सभी पार्टियां अपने अपने हिसाब से राजनीतिक गोटी बैठाने में लगीं

मुजाहिद जैदी
लखनऊ। सियासत में कब दोस्ती हो जाए और कब दुश्मनी पता नहीं चलता। ऐसा ही कुछ इस समय यूपी सरकार और केंद्र सरकार में हो रहा है। क्योंकि एक सरकार दूसरे सरकार की तारीफ कर रही है। तो वहीं दोनों पार्टियो की पिछली बातें याद की जाये तो एक से एक आरोप प्रत्यारोप एक दूसरे पर लगाते रहे थे। लेकिन ये जनता के लिए अच्छी बात है की अब दोनों पार्टियां एक दूसरे पर आरोप प्रत्यारोप न लगा के जनता के हित में सोचेंगे। क्योंकि बिजली पानी जैसी गंभीर समस्या को लेकर पार्टियां एक दूसरे पर आरोप लगाती हैं और उसका खामियाजा जनता को भुगतना पड़ता है।
सियासत में कौन कब किस पाले बैठ जाए, पहले से कह नहीं सकते। कुछ दिनों पहले तक समाजवादी पार्टी सरकार और केंद्र की बीजेपी सरकार एक दोनों को किसानों के मुद्दे पर पानी पी-पी कर कोस रहीं थीं। लेकिन अब बदले वक्त के साथ दोनों पार्टियां रिश्ते बेहतर करने में जुट गई हैं। अभी हाल ही में फतेहपुर में एक निजी कार्यक्रम में शामिल होने के मौके पर अखिलेश यादव ने प्रधानमंत्री की दिल खोलकर प्रशंसा की थी और उनकी विदेश नीति और मेक इन इंडिया कॉंसेप्ट की तारीफ की थी और कहा था कि मोदी की विदेशी यात्राओं से देश में निवेश का माहौल बना है।
तो वहीं केंद्र सरकार भी यूपी सरकार से रिश्ते बेहतर करना चाहती है। नेपाल में भूकंप की त्रासदी आई तो जहां केंद्र सरकार ने अपने पड़ोसी मुल्क की सहायता की तो वहीं यूपी सरकार ने भी जी जान से नेपाल की हरसंभव मदद की। अखिलेश सरकार की इस मदद पर विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को चि_ी लिखी और कहा कि यूपी सरकार ने नेपाल की जिस तरह सहायता की मैं इस पर यूपी सरकार का धन्यवाद करती हूं। इस चि_ी को अखिलेश सरकार ने मुख्यमंत्री के आधिकारिक ट्विटर आईडी पर अपलोड किया है, लेकिन जब सियासी पार्टियों से इसके बार में पूछा गया, तो जाहिर था इस बात को लेकर सभी पार्टियां अपने अपने हिसाब से राजनीतिक गोटी बैठाने लगीं। तो वहीं बीजेपी इसको लेकर प्रधानमंत्री की बड़ी सोच और बीजेपी सरकार की सभी राज्यों को साथ लेकर चलने की बात बता रही है। सियासत में एक दूसरे की तारीफ के क्या मायने हैं ये तो पार्टियां बेहतर जानती हैं लेकिन आपसी शिष्टाचार कब तक चलता है। ये देखना दिलचस्प होगठे
समाजावदी पार्टी का कहना है कि पहले तो हमारे नेता ने प्रधानंमत्री मोदी की तारीफ की है। बाद में कोई तारीफ कर दे तो ये तारीफ नहीं कही जा सकती।
Captureबुक्कल नवाब, नेता, समाजवादी पार्टी
तो वहीं एक ओर सपा व बीजेपी की बन रही रिश्तों की इस इमारत पर कांग्रेस का कहना है कि ये दोनों पार्टियां एक सिक्के के दो पहलू हैं। एक हिंदू सांप्रदायिकता को बढ़ावा देती है और दूसरी मुस्लिम सांप्रदयिकता को बढ़ावा देती है।
-सत्यदेव त्रिपाठी, प्रवक्ता, कांग्रेस

Pin It