नमन की हत्या के समय मुनीर के पास थे पांच असलहे

  • पुलिस को पूछताछ में मिले कई अहम सबूत

Capture4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। एनआईए के डीएसपी तंजील अहमद की हत्या में इस्तेमाल हुआ एक और पिस्टल बिजनौर पुलिस ने लखनऊ से बरामद किया है। मुनीर ने रिंग रोड के पास एक ठिकाने में असलहा छिपा रखा था। उसको लखनऊ रिजर्व पुलिस लाइंस के हॉस्टल में रखा गया है। महकमे के आला अधिकारियों समेत लखनऊ पुलिस के अफसरों ने रातभर मुनीर से गहन पूछताछ की है, जिससे उन्हें काफी कुछ जानकारी मिली है। लेकिन लखनऊ पुलिस मुनीर को रिमंाड पर लेने में नाकाम रही है।
बिजनौर पुलिस गुरुवार सुबह मुनीर को तीन गाडिय़ों के साथ लेकर निकली। मुनीर के साथ सीओ धामपुर अशोक यादव, तीन थानों के एसओ और 12 कांस्टेबल लखनऊ आए। शाम करीब पांच बजे बिजनौर पुलिस लखनऊ पुलिस लाइंस पहुंची। यहां से सुरक्षा के लिए लखनऊ पुलिस के 30 और कांस्टेबल लगाए गए। बिजनौर पुलिस मुनीर को आदिल नगर स्थित उस घर में ले गई, जहां वह किराए पर रहता था। उसे जगरानी हॉस्पिटल के पास फ्लैट और कुकरैल बंधे के पास तीसरे ठिकाने पर भी ले जाया गया। यहां उसकी निशानदेही पर पुलिस ने कंट्रीमेड पिस्टल और चार कारतूस बरामद किए। इस दौरान मुनीर से लखनऊ के उसके मददगारों, ठिकाने उपलब्ध कराने वालों के बारे में भी जानकारी की गई। लखनऊ में मुनीर की मदद करने वाले सऊद, इमरान के अलावा कुछ और लोगों के नाम सामने आए हैं। उनके बारे में लखनऊ पुलिस को जानकारी दे दी गई है। इसके अलावा मुनीर ने सऊद से जुड़ी कई अहम बातें बताई हैं। उसके आधार पर एसटीएफ ने सऊद की तलाश तेज कर दी है।
मुनीर ने पूछताछ में बताया कि नमन की हत्या और जज के गनर पर हमले के दौरान उसके और सऊद के पास पांच असलहे थे। इनमें से एक सरकारी पिस्टल दिल्ली के जफराबाद से लूटी हुई थी।

Pin It