नगर निगम को कॉलोनी हैण्डओवर होने का कर रहे हैं इंतजार

  • चिनहट की गहमरकुंज व हिमसिटी कालोनी का मामला

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। चिनहट के मटियारी चौराहा स्थित गहमरकुंज कालोनी और हिमसिटी कालोनी का नक्शा बिगड़ चुका है। कुछ वर्ष पहले जिस तरह आलीशान मकानों से कालोनियां अस्तित्व में आई थीं, वहां अब विकास के नाम पर बस आलीशान मकान ही बचे हैं। मूलभूत सुविधा के नाम पर कुछ नहीं है। मटियारी चौराहे पर बनने वाले निर्माणाधीन ओवरब्रिज के चलते कालोनी की सडक़ें निवासियों के लिए सिरदर्द बन गयी हंै। धीमे निर्माण के चलते लोगों को शार्टकट अपनाना पड़ता है और गलियों से घूमकर आना जाना पड़ रहा है। इससे गलियों की सडक़ों की हालत तो खस्ता हो ही रही हैं। साथ ही वातावरण भी दूषित हो रहा है। कंचनपुर मटियारी की हिमसिटी कॉलोनी 2007 में बसी थी। कालोनी में करीब दो हजार से ज्यादा मकान बने हुए हैं। मकानों के लिहाज से तो यह एक पॉश कालोनी मानी जाती है, लेकिन उसका एक कड़वा सच यह है कि यहां तीन वर्ष पहले सीवर लाइन डालने के बाद भी अभी तक घरों से कनेक्शन नहीं हुआ है। लोगों ने बताया कि कालोनी अभी तक नगर निगम को हैंडओवर नहीं हुई है, जिसका खामियाजा कॉलोनी में रहने वाले लोग भुगत रहे हैं। यही हाल गहमरकुंज कालोनी का भी है।
ओवरब्रिज के धीमे निर्माण पर गलियां बनी हाईवेदोनों कालोनियों के मुख्य रास्ते खस्ताहाल हो चुके हैं। रास्तों की हालत इतनी जर्जर हो गई है कि टूटी- फूटी रोड पर चलना मुश्किल है। अंदर गलियों के रास्ते का यह आलम है कि सडक़ का नामोनिशान तक नहीं है। वहीं मटियारी चौराहे पर ओवर ब्रिज का निर्माण कार्य चल रहा है। काम की रफ्तार कम होने से ओवर ब्रिज के निर्माण में काफी वक्त लगा रहा है। शॉर्टकट के चलते गहमरकुंज व हिमसिटी कालोनी की गलियां इन दिनों हाईवे बनी हुई हैं।

Pin It