नक्सली हमले में 10 जवान शहीद, नक्सलियों की तलाश व कार्रवाई जारी

Captureपटना। बिहार के नक्सल प्रभावित औरंगाबाद जिले के जंगलों में नक्सलियों ने मुठभेड़ के दौरान विस्फोट कर एक बड़ी वारदात को अंजाम दिया। इस हमले में केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के 10 जवान शहीद हो गए। जवान 205वीं कोबरा बटालियन से संबद्ध थे जानकारी के अनुसार, औरंगाबाद जिले के जंगलों में नक्सलियों की ओर से किए गए आईईडी विस्फोट में केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) की कोबरा बटालियन से संबद्ध कम-से-कम दस कमांडो शहीद हो गए और पांच अन्य घायल हो गये। इसके बाद भारी संख्या में सीआरपी के जवान जंगलों में नक्सलियों की तलाश कर रहे हैं। नक्सलियों पर प्रभावी कार्रवाई करने के लिए केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से बात की। 

अधिकारियों ने बताया कि कल दोपहर सीआरपीएफ कमांडो और नक्सलियों के बीच मुठभेड़ शुरू हो गयी, जिसमें देर रात तक तीन नक्सली मारे गये। घटनास्थल से एक एके-47 राइफल, इंसास राइफल और अंडर बैरेल ग्रेनेड लांचर भी बरामद किये गये। सीआरपीएफ के महानिदेशक के. दुर्गा प्रसाद और अन्य वरिष्ठ अधिकारियों के आज घटनास्थल पर जाने की संभावना है। अधिकारियों ने बताया कि नक्सिलयों ने एक दर्जन से अधिक आईईडी विस्फोट किए।
सीआरपीएफ के शहीद जवानों की पहचान बिहार के बक्सर निवासी हेड कांस्टेबल अनिल कुमार सिंह, मणिपुर के थोबुल निवासी के. उपेन्द्र सिंह, उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ निवासी कांस्टेबल सिनोद कुमार, पंजाब के होशियारपुर निवासी रमेश कुमार, बिहार के खगडिय़ा निवासी दिवाकर कुमार, पश्चिम बंगाल के दक्षिणी दिनाजपुर निवासी पोलाश मंडल, पश्चिम बंगाल के नादिया निवासी दीपक घोष, मध्य प्रदेश के बैतूल निवासी मनोज कुमार, उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर निवासी हरविंदर पंवार और बिहार के सीवान निवासी रवि कुमार के रूप में हुई है।

Pin It