धमकी देकर शक्ति को भेजा गया था टूर पर

मृतक के भाई ने हत्या की आश्ंाका जताते हुए प्रोफेसर समेत चार के खिलाफ थाने में दी तहरीर

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
Captureलखनऊ। लखनऊ विश्वविद्यालय के रिसर्च स्कालर शक्ति यादव की उत्तराखण्ड में पिछले महीने संदिग्ध परिस्थितियों में हुई मौत के मामले में अब नया मोड़ आ गया है। संंबंधित विभाग के जवाबों से असंतुष्टï मृतक के बड़े भाई वरुण यादव ने आरेप लगाया है कि शक्ति को कॅरियर बर्बाद करने की धमकी देकर भूगर्भ विज्ञान विभाग के प्रोफेसर अजय मिश्रा ने टूर पर भेजा था। इसके साथ ही मृतक के भाई वरुण यादव ने आरोपित प्रोफेसर समेत चार लोगों के खिलाफ हसनगंज थाने में तहरीर देकर न्याय की मांग की है।
शक्ति के परिवार वालों का कहना है कि शक्ति तीन साल के शोध में अजय मिश्रा के साथ उसी जगह पर चार बार गया था लेकिन इस बार न तो अजय मिश्रा गये और नही कोई प्रोफेसर। वरुण ने यह भी कहा कि वह बहुत ही प्रतिभाशाली था। उसके प्रोजेक्ट और डाटा बहुत ही अच्छे थे, जिसको लेकर वह कहता था कि मेरे डाटा जैसा अब तक किसी के पास नही है। उसकी प्रतिभा का लोहा विभाग के लोग भी मानते थे, जिससे उसके साथ के शोधार्थी छात्र उससे ईष्र्या कते थे।
शक्ति नहीं जाना चाहता था टूर पर
वरुण का कहना है कि इस बार शक्ति टूर पर जाने से पहले मिलने आया था, तो उसने कहा था कि मैं इस बार टूर पर नहीं जाना चाहता हूं। मेरे पूछने पर उसने बताया कि इस बार विनीत ही जा रहा है। पिछली बार इसी टूर पर विनीत से हाथापाई हुई थी,और इसकी जानकारी मैने विभागाध्यक्ष और अजय सिंह को दिया था। उसके बाद भी मुझे उसके साथ ही भेजा जा रहा है।
यू.जी.सी. की गाइडलाइन की भी की अनदेखी

मृतक के भाई का यह भी आरोप है कि विभाग वालों ने यू.जी.सी.की गाइड लाइन के अनुसार किसी भी शैक्षिक भ्रमण पर जाने के लिए कम से कम दो प्रोफेसर का साथ जाना जरुरी होता है लेकिन विभाग वालों ने इसकी अनदेखी कर अपना फायदा देखा।

धमकी देकर किया मजबूर

वरुण के बहुत पूछने पर शक्ति ने बताया कि मेरे जाने से मना करने पर प्रोफेसर अजय मिश्रा ने मुझे धमकी दी की अगर टूर पर नहीं जाओगे तो तुम्हारा करियर बर्बाद कर दूंगा और साथ ही टूर का सारा खर्च भी तुम से रिकवर किया जायेगा, जिसके कारण टूर पर जाने को मजबूर था।

Pin It