धमकी देकर छात्रा से करता रहा रेप

मेडिकल परीक्षण कराने आई छात्रा ने बयां की दास्तां

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। कानपुर से आई छात्रा की अगवा कर गैंगरेप करने के मामले में पिता ने पुलिस पर लीपापोती आरोप लगाया है। पीडि़ता का पिता न्याय के लिये एसएसपी आवास पहुंचा था, लेकिन एसएसपी से मुलाकात नहीं हो पाई। आरोप लगाने वाली छात्रा ने मेडिकल परीक्षण के बाद झलकारी बाई अस्पताल में अपना दर्द बयां किया। उसने बताया कि मुख्य आरोपी अनिल यादव उसे अगवा कर ले गया था। जहां उसके साथ सामूहिक दुराचार करता रहा। इसकी जानकारी होने पर आरोपी की मां उसे ऐसा करने से मना कर रही थी लेकिन आरोपी उन्हें भी धमकाते थे। पीडि़ता का कहना था कि अनिल अपनी मां से गाली-गलौच कर मारपीट भी करता है।
पीडि़त छात्रा ने बताया कि 13 मई को चारबाग रेलवे स्टेशन से अनिल उसे बहला-फुसला कर अपने साथ गांव लेकर गया था। जहां जबरन उसे बंधक बना लिया और घर पर कैद कर अपने भाई व सालों के साथ गैंगरेप करता रहा। जब इस बात की जानकारी आरोपी अनिल की मां को हुई तो उन्होंने अनिल का विरोध करते हुए उसे ऐसा करने से मना किया था। पीडि़ता की माने तो आरोपी अपनी मां को भी धमकाने लगे और गाली-गलौच की। इसके बाद उसे लेेकर एक नए मकान में पहुंचे जहां बंधक बनाकर करीब 25 दिनों तक सामूहिक दुष्कर्म किया। पीडि़ता ने बताया कि अनिल के परिजन जब विरोध पर उतर आए तो उसे मोहनलालगंज के फत्तेखड़ा गांव लेकर पहुंचे। वहां भी 15 दिनों तक बंधक बनाकर गैंगरेप किया गया। पीडि़त छात्रा व उसके पिता का आरोप है कि पुलिस ने आरोपियों को थाने बुलाकर छोड़ दिया। अब उनकी गिरफ्तारी नहीं की जा रही है। पीडि़त छात्रा का गुरुवार को पीजीआई पुलिस ने झलकारी बाई अस्पताल में मेडिकल कराया है, जबकि डीएनए जांच के लिए सैम्पल ले लिया गया है। पीडि़त छात्रा का कहना है कि गैंगरेप का विरोध करने पर आरोपी अनिल की पत्नी ने भी उसके साथ मारपीट की।

आरोपी की मां ने बताया घर का पता

पीडि़त छात्रा से जब यह पूछा गया कि आरोपी का नाम तो पता था लेकिन उसके घर व गांव का पता और उसके पिता का नाम कैसे मालूम हुआ तो उसका कहना था कि आरोपी अनिल की मां ने बताया था।

बयान में तालमेल ही नहीं

पीडि़त छात्रा ने पहले बताया था कि वह घर से नाराज होकर आई थी, लेकिन यहां उसका कहना है कि वह कोचिंग जाने के बहाने घर से निकली थी और लखनऊ चिडिय़ाघर घूमने आ गई। यही नहीं उसका कहना है कि आरोपी अनिल उसे अपने घर पर बंधक बनाकर रखे हुए था, जहां उसका पूरा परिवार भी था।

Pin It