दोबारा इंटरव्यू पर उठे सवाल

एआरएम की नियुक्ति के लिये आईआईएम ने लिखित परीक्षा के बाद लिया था साक्षात्कार फिर इंटरव्यू हेतु दोबारा बुलाये गये अभ्यर्थी

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क

लखनऊ। यूपीएसआरटीसी मुख्यालय में एआरएम की नियुक्ति को लेकर इंटरव्यू हुए लेकिन दोबारा इंटरव्यू लेना यूपीएसआरटीसी में मौजूद कर्मचारी और अधिकारियों के बीच चर्चा का विषय बन गया है। वजह थी कि 30 पदों पर एआरएम की नियुक्ति के लिए जब आईआईएम ने लिखित परीक्षा करवाई है और इंटरव्यू भी आईआईएम करवा चुका है, तो फिर दोबारा इंटरव्यू कराने के लिए इन अभ्यर्थियों को क्यों बुलाया गया। बताया जाता है कि परिवहन मंत्री दुर्गा प्रसाद यादव के कहने पर इन अभ्यर्थियों का दोबारा इंटरव्यू प्रबंध निदेशक मुकेश मेश्राम और अपर प्रबंध निदेशक के विजयेंद्र पांडियन ने लिया और ऑफ रिकॉर्ड जो अभ्यर्थी इंटरव्यू देने आए, वो भी दोबारा इंटरव्यू पर सवाल उठाते दिखे। इस संबंध में जब ये यूपीएसआरटीसी वाल के चैयरमैन आनंद मिश्रा से पूछा गया, तो वह पत्रकारों के सवाल पर घबरा गए और बोले ये सवाल आप प्रबंध निदेशक मुकेश मेश्राम से पूछिये कि दोबारा इंटरव्यू क्यों लिया गया। इस पर मुकेश मेश्राम बोले आप बेफिक्र रहिए किसी के साथ अन्याय नहीं होगा और कुछ टेक्निकल गलती हुई थी। इसलिए इंटरव्यू दोबारा लिया गया है।

एलयू कार्यपरिषद की बैठक में लिए जायेंगे कई अहम फैसले
लखनऊ। लखनऊ विश्वविद्यालय में 6 जुलाई को होने वाली कार्य परिषद की बैठक में अहम फैसले लिये जायेंगे। जिसमें बीएड की तरह एम.एड भी दो वर्ष का किया जायेगा साथ ही पीएचडी के पाठ्यक्रम में भी बदलाव किया जायेगा।
विश्वविद्यालय की में नए शैक्षिक सत्र 2015-16 से एम.एड. को दो वर्ष का करने की योजना है। जिसमें पढ़ाई के तरीकों के साथ-साथ प्रेक्टिकल व फील्ड वर्क और प्रक्टिकल के भाग को भी बढ़ाया जायेगा। इसी के साथ ही पीएचडी के आर्डिनेस को भी पास किया जाएगा। नए सत्र में पीएचडी में प्रवेश में पूछे गये प्रश्नों के गलत उत्तर पर अंक भी काटे जायेगें। इन सभी मुद्दों पर आगामी 6 जुलाई को होने वाली कार्यपरिषद की बैठक में इन योजनाओं पर मोहर लगाई जायेगी।

Pin It