देश में बने धार्मिक सुरक्षा कानून: आबिद

पैगम्बर-ए-इस्लाम पर टिप्पणी करने वाले के खिलाफ फूटा आक्रोश

दर्जा प्राप्त राज्यमंत्री आबिद रजा की सांकेतिक भूख हड़ताल में उमड़ा जनसैलाब
सांसद धर्मेन्द्र यादव ने मामले को संसद में उठाने का दिया भरोसा

Capture4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
बदायूं। पैगम्बर-ए-इस्लाम पर टिप्पणी करने वालों के खिलाफ जनता का आक्रोश थमता नहीं दिख रहा है। इसी सिलसिले में विधायक एवं दर्जा राज्यमंत्री आबिद रजा ने धरना-प्रदर्शन एवं सांकेतिक भूख हड़ताल का आह्वïान किया था, जिसमें भारी जनसैलाब उमड़ा। श्री रजा ने देश में आंतरिक सुरक्षा बचाने की खातिर धार्मिक सुरक्षा कानून बनाने की मांग उठाई तो मंच पर पहुंचे सांसद धर्मेंद्र यादव ने इस मामले को संसद में उठाने का भरोसा दिलाया।
राज्यमंत्री श्री रजा ने आहत मन से कहा कि जिस देश की सुंदरता हिंदू, मुस्लिम, सिख और ईसाई हैं, वहां भाजपा और आरएसएस के इशारे पर कुछ लोग अपने को चमकाने में लगे हैं। उन्होंने कहा कि इतिहास गवाह है कि हिंदू धर्म के आदिदेव श्रीराम और श्रीकृष्ण का युद्ध किसी गैर धर्म से नहीं हुआ, इसी तरह हज. हसन हुसैन की लड़ाई किसी गैर से नहीं, बल्कि अपनों से ही हुई थी। साफ है कि किसी धर्म के महापुरुष लडऩे की इजाजत नहीं देते।
इस मौके पर सांसद धर्मेंद्र यादव ने कहा कि देश की सत्ता में बैठे भाजपाई महात्मा गांधी के हत्यारे गोडसे का मंदिर बनवाने की फिराक में हैं। मंसूबा पूरा नहीं होने देंगे। वह नफरत फैलाकर कत्लेआम करवाना चाहते हैं। खून के धब्बे ऐसे छूटने वाले नहीं हैं। दिल्ली में मांग उठाएंगे और फिर जनता के बीच जाकर लड़ेंगे।

मंच पर दिखा सर्व धर्म समभाव
शहर विधायक राज्यमंत्री आबिद रजा के धरना प्रदर्शन और भूख हड़ताल के लिए लगे मंच पर सर्व धर्म समभाव दिखा। उन्होंने हर धर्म के लोगों से पहुंचने का आह्वान किया था। उनका कहना है कि किसी भी धर्म का व्यक्ति आपस में भाईचारे में खटास नहीं चाहता। हां कुछ लोग नफरत फैलाने का काम कर रहें हैं, यह मंच उनके लिये सबक होगा।

Pin It