दीपक सिंघल बने मुख्य सचिव

Captureलखनऊ। प्रदेश सरकार के मुख्य सचिव का पद संभालने के बाद दीपक सिंघल अपने चिरपरिचित तेवर में नजर आये। उन्होंने कहा कि उनका मकसद सरकार की प्राथमिकता वाली योजनाओं का बेहतर क्रियान्वयन करवाना रहेगा। इसके साथ ही बेरोजगारों और युवाओं को रोजगार दिलाने की दिशा में काम करेंगे। आने वाले समय में उनका मकसद काम, काम और सिर्फ काम रहेगा। ऐसा करके वह मुख्यमंत्री की उम्मीदों पर खरा उतरने की कोशिश करेंगे। इसके साथ ही जिलों में तैनात पुलिस और प्रशासनिक विभाग के अधिकारियों को भी फील्ड में निकलने के लिए मजबूर करेंगे और काम करने की आदत डलवायेंगे। मुख्य सचिव ने आज सुबह ईदगाह पहुंचकर नमाजियों को ईद की बधाई दी और सुरक्षा व्यवस्था का जायजा भी लिया।
मुख्य सचिव के पद से 30 जून को आलोक रंजन के रिटायर होने के बाद अगले मुख्य सचिव को लेकर चल रही सारी अटकलों पर विराम लग गया है। 1982 बैच के वरिष्ठ आईएएस अधिकारी दीपक सिंघल को नया मुख्य सचिव बनाया गया है। उन्होंने बुधवार शाम को ही पदभार ग्रहण कर लिया। कार्यवाहक मुख्य सचिव और वरिष्ठ आईएएस अधिकारी प्रवीर कुमार ने सारी औपचारिकताएं पूरी कर दीपक सिंघल को कार्यभार सौंप दिया। इसके बाद से लगातार दीपक सिंघल को मुख्य सचिव बनने की बधाईयां देने का सिलसिला शुरू हो गया है। ब्यूरोक्रेसी से जुड़े लोगों के अलावा मीडिया जगत के लोगों ने भी मुख्य सचिव से मुलाकात कर बधाई दी।
बतातें चलें कि मुख्य सचिव की रेस में आईएएस प्रवीर कुमार के अलावा कई अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी शामिल थे। लेकिन सीएम की गुड बुक में पहले स्थान पर माने जा रहे प्रवीर कुमार पिछड़ गए । जबकि मैनेजमेंट में माहिर 1982 बैच के आईएएस दीपक सिंघल ने बाजी मार ली। फिलहाल दीपक सिंघल के मुख्य सचिव बनने के बाद से ब्यूरोक्रेसी में तमाम तरह की चर्चाएं होने लगी है। कुछ लोगों का कहना है कि दीपक सिंघल के पीछे अमर-शिवपाल यादव का हाथ है, इसी वजह से उन्हें मुख्य सचिव की कुर्सी पर बिठाया गया। इतना ही नहीं शिवपाल यादव से दीपक सिंघल के करीबे रिश्ते किसी से छिपे नहीं हैं। अमर सिंह भी शुरू से दीपक सिंघल की वकालत करते रहे हैं। इसी वजह से दीपक सिंघल को मुख्य सचिव के अलावा प्रमुख स्थानिक आयुक्त, यूपीए नई दिल्ली और पिकप के अध्यक्ष का भी चार्ज दिया गया है।
सरकार की प्राथमिकताओं पर रहेगा ध्यान
दीपक सिंघल ने मुख्य सचिव का कार्यभार ग्रहण करने के बाद कहा कि उनका ध्यान सरकार की प्राथमिकताओं पर रहेगा। किसान और बेरोजगार नौजवान को रोजगार दिलाना उनकी प्राथमिकता रहेगी। कार्यालयों में बैठने वले डीएम और एसएसपी को अब काम करना पड़ेगा। थाना और तहसील स्तर पर न्याय दिलाना मेरी प्राथमिकता रहेगी। यदि मुख्यमंत्री ने मेरे ऊपर भरोसा जताया है, तो मैं उस पर खरा उतरुंगा।
शिवपाल यादव को खुश करने की कोशिश
इस बात की चर्चा जोरों पर है कि दीपक सिंघल को मुख्य सचिव बनाकर सीएम ने शिवपाल यादव की नाराजगी मिटाने की कोशिश की है। सियासी हलकों में चर्चा चल रही है कि कौमी एकता दल के प्रकरण के बाद शिवपाल यादव नाराज हो गए थे। जिसके बाद उन्होंने कैबिनेट विस्तार से भी दूरी बनाए रखी थी। ऐसे में शिवपाल यादव की नाराजगी दूर करने के लिए मुलायम सिंह यादव ने दीपक सिंघल के नाम पर मुहर लगाई। जबकि सबको अच्छी तरह मालूम है कि सीएम अखिलेश यादव दीपक सिंघल को पसंद नहीं करते हैं। इसका उदाहरण तब मिला था जब दीपक सिंघल को यूपी का प्रमुख सचिव गृह बनाया गया था। लेकिन मात्र 13 दिनों के कार्यकाल के बाद उन्हें हटा दिया गया था।

Pin It