तापमान में बदलाव कर सकता है आपको बीमार

आने वाले दिनों में तापमान में और भी गिरावट होने की आशंका

Capture 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। राजधानी में दिन और रात के तापमान में काफी अंतर देखने को मिल रहा है। इस कारण संक्रामक रोगों के फैलने और लोगों के बीमार होने का खतरा बढ़ गया है। जिनको सांस, दिल और हड्डी से जुड़ी बीमारियां हैं, उनकी समस्याओं में इजाफा हो सकता है। इसलिए बदलते मौसम में सावधान रहकर बीमारियों से बचने की कोशिश करें।
मौसम में बदलाव के साथ ही इंसान को नुकसान पहुंचाने वाले वायरस भी सक्रिय हो जाते हैं। चिकित्सा विशेषज्ञों ने दिन और रात के तापमान में बहुत अधिक अंतर होने को सेहत के लिए खतरनाक माना है। इस मौसम में बच्चों और बुजुर्ग व्यक्तियों को सबसे अधिक सजग रहने की जरूरत है। बच्चों को सर्दी, खांसी, निमोनियां की बीमारी बहुत तेजी से अपनी चपेट में लेती हैं। इसलिए रात में बच्चों को ठंड से बचाव के इंतजाम करके रखें। यदि आपके घर में कूलर या एसी चल रहा है, तो उसको कमरे का तापमान ठंडा हो जाने के बाद बंद कर दें। रात में ठंड लगे तो उसको बरदात करने की बजाय हल्की चादर ओढ़ कर सोयें। इसी प्रकार बुजुर्ग व्यक्तियों को भी दिन और रात के तापमान में बदलाव के हिसाब से अपने शरीर का ध्यान रखना चाहिए। इस मौसम में रात के समय ठंडा पानी पीने और सुबह-सुबह टहलने के दौरान ऐसे कपड़े पहनने चाहिए, जो शरीर को हल्का गर्म रखें।
आंकड़ों पर गौर करें तो अक्टूबर महीने की शुरुआत के साथ ही मौसम में हल्की ठंड का एहसास होने लगा है। दिन में निकलने वाली चिलचिलाती धूप और शाम होने के साथ ही तापमान में गिरावट रिकार्ड की गई है। पिछले 24 घंटे के दौरान अधिकतम तापमान 36 डिग्री सेल्सियस और न्यूनतम 19 डिग्री सेल्सियस रहा। इसलिए दिन और रात के इतना अंतर सेहत के लिए खतरनाक हो सकता है।

दिन के तापमान में भी आयेगी गिरावट

आंचलिक मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक जेपी गुप्ता ने बताया कि पछुआ पवन में बदलाव की वजह से तापमान में धीरे-धीरे गिरावट हो रही है। इस कारण पहाड़ों से आने वाली हवाएं मैदानी इलाकों में चुपके से ठंडक घोल रही हैं। तापमान में आने वाले दिनों में और अधिक गिरावट होने की आशंका है। पहाड़ों में बर्फबारी की शुरूआत होने के बाद मैदानी इलाकों में ठंड का असर सबसे अधिक देकने को मिल सकता है। आलम ये है कि 4 अक्टूबर को राजधानी का तापमान 20.3 डिग्री नीचे आ गया था। इसी प्रकार कानपुर का तापमान 16.6 डिग्री सेल्सियस , इलाहाबाद का तापमान 21 डिग्री सेल्सियस, मुजफ्फनगर का तापमान 17.4 डिग्री सेल्सियस रहा। मौसम वैज्ञानिकों का कहना है कि दिन और रात के तापमान में काफी अंतर है। 20 अक्टूबर के बाद दिन के तापमान में भी तेजी से गिरावट होने की उम्मीद है। इसके बाद प्रदेश भर में सर्दी का मौसम शुरू हो जायेगा।

संक्रमण से बचाव के उपाय

बाल रोग विशेषज्ञ डॉ. शैलेश अग्रवाल के मुताबिक बदलते मौसम में बच्चों में सबसे अधिक संक्रमण फैलने का खतरा रहता है। इसलिए बच्चों के खान-पान और दिनचर्या पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। यदि आपका बच्चा धूप में कापी देर रह कर या खेल कर लौटा है, तो उसको कुछ देर कमरे के तापमान में बैठकर सामान्य होने दीजिए। इसके बाद ही उसको पीने के लिए पानी दीजिए। बच्चों को रात के समय आइसक्रीम और ठंडा पानी पीने से बचना चाहिए। बच्चों को सर्दी, जुकाम और बुखार की शिकायत हो तो हल्दी वाला दूूध दें। चिकित्सक की सलाह लेने के बाद ही बच्चे को दवा खिलायें। इस मौसम में हम खान-पान में कुछ खास खाद्य पदार्थों का इस्तेमाल कर रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ा सकते हैं। इसमें लौंग, अदरक, प्याज, लहसुन इत्यादि का सेवन करें। दिन में कम से कम 10 गिलास पानी पियें ताकि पानी के साथ शरीर के हानिकारक तत्व भी बाहर निकल जाएं।

Pin It