तदर्थ शिक्षकों पर भांजी गयीं लाठियां

 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क

Captureलखनऊ। प्रदेश के तदर्थ शिक्षकों ने नियमित करने की मांग पर सोमवार को विधान भवन के सामने शिक्षकों ने विरोध प्रदर्शन किया। प्रदर्शन के दौरान पुलिस और शिक्षकों में जमकर हाथापाई हुई। हालांकि बाद में कई शिक्षकों को हिरासत में ले लिया गया। विधानभवन के सामने हजारों तदर्थ शिक्षकों ने नियमित होने की मांग को लेकर प्रदर्शन बाद हंगामा किया। तदर्थ शिक्षकों के इस प्रदर्शन और हंगामे को काबू में करने के लिए भारी संख्या में पुलिस फोर्स लगी हुई थी। लेकिन शिक्षकों के न मानने पर हंगामा बढ़ गया।
शिक्षकों को रोकने में पुलिस को काफी मशक्कत करनी पड़ी। शिक्षकों के धरना-प्रदर्शन की वजह से विधान भवन और आसपास के इलाके में भीषण जाम लग गया।सडक़ से हटाए जाने पर शिक्षक पुलिस से उलझ गए। इस बीच प्रदर्शनकारियों और पुलिस में नोकझोंक के बाद कई बार धक्का-मुक्की चली। हंगामा बढऩे से नौबत हाथापाई तक पहुंच गई। शिक्षकों का आरोप है कि हमारी मांगों को लेकर मुख्यमंत्री से भी वार्ता हो चुकी है। फिर भी कोई असर नहीं हुआ। इसलिए सडक़ पर आना ही विकल्प बचा था। तदर्थ शिक्षकों को नियमित करने के लिए अगस्त में ही मंत्रिपरिषद प्रस्ताव पास कर चुका है। इसके बावजूद कई महीने बीतने के बाद भी अभी तक इसका शासनादेश जारी नहीं किया गया है। शिक्षकों के समर्थन में शिक्षक विधायक राजबहादुर सिंह चंदेल, चेत नारायण सिंह, कांति सिंह, उमेश द्विवेदी और देवेंद्र प्रताप सिंह सदन में आवाज उठाएंगे। ये सदस्य दो दिन पहले भी तदर्थ शिक्षकों को नियमित करने की मांग पर विधान परिषद में हंगामा कर चुके हैं।

Pin It