डेंगू पीडि़त मरीजों के इलाज में बरती जा रही है लापरवाही

  • इमरजेन्सी में तैनात पैरामेडिकल स्टाफ हंसी-मजाक में रहता है व्यस्त

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। राजधानी के बलरामपुर अस्पताल में डेंगू बुखार से पीडि़त मरीजों के इलाज में चिकित्सक और नर्स लापरवाही बरत रहे हैं। अस्पताल में भर्ती मरीजों की देखभाल और इलाज को लेकर पैरामेडिकल स्टाफ बिल्कुल भी गंभीर नहीं है। इसलिए परिजनों ने इसकी शिकायत अस्पताल के प्रशासनिक अधिकारियों से की है, जिसे गंभीरता से लेकर सीएमएस ने अस्पताल के कर्मचारियों को फटकार लगाई है।
बलरामपुर अस्पताल की इमरजेन्सी में बेड नंबर सात पर मरीज अभिलाषा (22) निवासी फैजुल्लागंज का इलाज चल रहा है। परिजनों का आरोप है कि ड्यूटी रूम में उपस्थित स्टॉफ नर्स और वार्ड ब्वॉय से मरीज को ग्लूकोज चढ़ाने और इंजेक्शन देने के लिए कई बार कहा गया लेकिन उन लोगों ने अनसुना कर दिया। जबकि 24 घंटे में भर्ती मरीज को मात्र ग्लूकोज ही दिया जा रहा था। लेकिन जब चिकित्सक ने मरीज को देखने के बाद इंजेक्शन और अन्य दवाएं लिखीं, तो मरीज को इंजेक्शन लगवाने के लिए नर्स को बुलाया गया। लेकिन वह स्टाफ रूप में अन्य नर्सों और स्वास्थ्य कर्मियों के साथ हंसी-मजाक करने में व्यस्त रहीं। इस दौरान करीब पांच बार मरीज के परिजनों ने नर्स से मरीज की ग्लूकोज की बोतल बदलने और इंजेक्शन लगाने का आग्रह किया लेकिन उसने एक नहीं सुनी। मरीज के भाई देवेन्द्र मिश्रा ने बताया कि पिछले चार दिनों से मरीज को बुखार आ रहा था, जिसके बाद चिकित्सक को दिखाया था। वहां पर जांच में डेंगू निकला था। इसलिए बलरामपुर अस्पताल में भर्ती कराया गया। लेकिन यहां इमरजेन्सी में भर्ती किये 24 घंटे से ज्यादा का समय हो रहा है लेकिन अभी तक प्लेटïïलेट्स की जांच तक नहीं की गयी है। इसलिए मामले की शिकायत सीएमएस से की गई है। उनके निर्देश पर पैरामेडिकल स्टाफ मरीज पर ध्यान देने लगा है।

Pin It