ट्रक संचालकों की हड़ताल जारी, बढ़ा खाद्यान्न संकट

हड़ताल का पांचवा दिन

आज शाम ‘एआईएमटीसी’ के प्रतिनिधि केन्द्रीय मंत्री नितिन गडकरी से करेंगे मुलाकात

Capture4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। देश भर में ट्रांसपोर्टरों की हड़ताल आज भी जारी है। हड़ताल का आज पांचवा दिन है। आंदोलन कर रहे ट्रक संचालकों के शीर्ष संगठन एआईएमटीसी और सरकार के बीच गतिरोध से देश के विभिन्न भागों में सामान की ढुलाई प्रभावित हुई है। ट्रकों के हड़ताल होने से महंगाई बढऩे के आसार बढ़ गए है। कई जगहों पर खाद्य सामग्री का संकट भी उत्पन्न हो गया है।
ट्रकों के हड़ताल का असर उत्तर प्रदेश में भी देखने को मिल रहा है। हड़ताल से उत्तर प्रदेश में 1500 करोड़ के कारोबार का नुकसान हुआ है। लखनऊ में लगभग 750 करोड़ के कारोबार के नुकसान होने की संभावना है। ऑल इंडिया मोटर ट्रांसपोर्ट कांग्रेस ने मौजूदा टोल प्रणाली को समाप्त किए जाने की मांग को लेकर हड़ताल का आह्वान किया है। ट्रक ऑपरेटरों का कहना है कि यह प्रणाली उनको परेशान किए जाने का हथियार है। वे इसके लिए एकमुश्त भुगतान सुविधा की मांग कर रहे हैं। साथ ही उनकी मांगों में टीडीएस प्रक्रिया का सरलीकरण भी शामिल है। ऑल इंडिया मोटर ट्रांसपोर्ट कांग्रेस ‘एआईएमटीसी’ के प्रतिनिधियों की आज शाम सडक़ परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी से मुलाकात होने वाली है। एआईएमटीसी के अध्यक्ष भीम बाधवा ने बताया, हम आज शाम सडक़ परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री से मुलाकात करेंगे। हमें कुछ सकारात्मक समाधान की उम्मीद है। जैसा समाधान निकलता है उस आधार पर हम अपनी कार्यकारणी समिति की बैठक बुलाएंगे जिसमें यह फैसला किया जाएगा कि हड़ताल आगे जारी रखी जाए या नहीं। गतिरोध खत्म करने में सरकार के साथ पूर्व की बातचीत नाकाम हो चुकी है इसलिए एआईएमटीसी ने मामले में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से भी हस्तक्षेप की मांग की है। ट्रक ऑपरेटरों की हड़ताल होने से देश के विभिन्न हिस्सों में वस्तुओं की आपूर्ति प्रभावित हुई है। हालांकि, इस मुद्दे पर गतिरोध अभी भी बना हुआ है।
एआईएमटीसी के अध्यक्ष भीम वाधवा ने कहा कि जब तक सरकार इसका कोई व्यावहारिक समाधान पेश नहीं करती, हमारी हड़ताल जारी रहेगी। हम टोल का भुगतान करने के खिलाफ नहीं हैं। हमारी मांग है कि इसे वाषिर्क आधार पर लगाया जाना चाहिए।

हाईकोर्ट ने सनिल कुमार को अध्यक्ष पद से हटाया

लखनऊ। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने आज अपने एक फैसले में माध्यमिक शिक्षा सेवा चयन बोर्ड के अध्यक्ष सनिल कुमार को बर्खास्त कर दिया है। हाईकोर्ट का मानना है कि सनिल कुमार पद के लिए योग्यता नहीं रखते हैं इसलिए इनकी नियुक्ति नियम विरुद्ध हुई है। उच्च शिक्षा के बाद अब माध्यमिक के अध्यक्ष भी बर्खास्त हो गए। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने सनिल कुमार की नियुक्ति को अवैध माना है। गौरतलब है कि सनिल कुमार पर पहले भी धांधली और भ्रष्टïाचार का आरोप लगा था।

Pin It