टूटेगा सूखे का तार इस साल होगी अच्छी बारिश

मौसम विभाग ने जारी की सूचना
ला नीना से आएगी बेहतर मानसून की स्थिति
किसानों के उत्पादन में होगा जबरदस्त इजाफा
सूखे से देश के कई इलाकों को मिलेगी निजात
समुद्री सतह के तापमान में बदलाव से बदलेगी स्थिति

Capture 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। बीते दो साल सूखे की मार से किसान परेशान रहे हैं लेकिन इस साल किसानों के लिए खुशखबरी है। पानी की किल्लत और सूखे की खबरों के बीच मौसम विभाग ने एक राहत भरी सूचना दी है। मौसम विभाग के मुताबिक, इस साल मानसून सामान्य से अच्छा रहेगा। यानी इस साल बारिश सामान्य से ज्यादा होगी। इस साल मानसून 104 से 110 प्रतिशत तक रहने की बात कही जा रही है। मराठवाड़ा, विदर्भ और बुंदेलखंड सहित देश के कई इलाके ऐसे हैं, जहां सूखे के हालात हैं। इस खबर से उम्मीद बंधी है कि वहां के हालात भी सुधरेंगे।
सूखे की मार झेल रहे किसानों को यह साल तोहफा देगा। मौसम विभाग ने इस साल अच्छी बारिश की सूचना दी है। इससे फसल के बेहतर होने की संभावना जताई जा रही है। देश के कृषि सचिव शोभना के. पटनायक ने वर्ष 2016-17 के लिए खरीफ अभियान को शुरू करने के लिए एक राष्ट्रीय सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा था कि अल नीनो (समुद्री सतह के तापमान में बदलाव की घटना) के प्रभाव में गिरावट आ रही है। ऐसी उम्मीद है कि इसके बाद ‘ला नीना’ की स्थिति आयेगी और जिससे इस वर्ष मानसून बेहतर हो सकता है। कमजोर मानसून के कारण भारत का खाद्यान्न उत्पादन फसल वर्ष 2014-15 (जुलाई से जून) में घटकर 25 करोड़ 20.2 लाख टन रह गया जो उसके पिछले वर्ष रिकॉर्ड 26 करोड़ 50.4 लाख टन के स्तर पर था। इसका सबसे ज्यादा नुकसान किसानों को हुआ है। जिससे जीडीपी में भी गिरावट आई है। इस तरह किसानों को इस साल बेहतर बारिश होने की वजह से अच्छी आमदनी की संभावना बनेगी।
दो वर्ष से लगातार कमजोर है मानसून
बीते दो वर्षों में सामान्य से कम बरसात ने किसानों और संसाधनों के लिए संकट पैदा किया है। भूमि में नमी की सख्त कमी है। फरवरी में आर्थिक सर्वे में भी कहा गया था कि पिछले वर्ष जो प्रतिकूल मौसम पूरे देश में था वह संभवत: इस वर्ष नहीं होगा। इतना ही नहीं इससे भूूमि का जल स्तर भी गिरा है। इससे सिंचाई में भी किसानों को दिक्कतें आईं।

Pin It