टीवी सीरियल्स के बदलते ट्रेंड

“टेलीविजन पर दिखाए जाने वाले सीरियल्स का लोगों के जीवन पर गहरा प्रभाव पड़ता है। कुछ सीरियल जैसे बीआर चोपड़ा के महाभारत और रामानन्द सागर के रामायण सीरियल की यादें जेहन में कौंध जाती हैं। लोग अपने जरूरी काम छोडक़र एक घंटा महाभारत और रामायण सीरियल sanjay sharma editor5देखते थे। इन सीरियल्स से लोगों ने बहुत कुछ सीखा और सीरियल में दिखाये जाने वाले तथ्यों को पुस्तकों में भी तलाशा।”

दुनिया का लगभग हर देश बदलाव के दौर से गुजर रहा है। सूचना की क्रांति और अत्याधुनिक टेक्नालॉजी की वजह से सब कुछ इंसान की मुट्ठी में यानी मोबाइल में आ गया है। इन सबके बावजूद टीवी सीरियल्स में भूत-प्रेत, जादू-टोने, नाग-नागिन और सुपरनेचुरल स्टोरीज का चलन तेजी से बढ़ रहा है, जिसे लोग खूब पसंद कर रहे हैं लेकिन कहीं न कहीं दर्शकों को जबरन ऐसी चीजें दिखाई जा रही हैं, जिन पर कम ही लोग विश्वास कर करते हैं।

टेलीविजन पर दिखाए जाने वाले सीरियल्स का लोगों के जीवन पर गहरा प्रभाव पड़ता है। कुछ सीरियल जैसे बीआर चोपड़ा के महाभारत और रामानन्द सागर के रामायण सीरियल की यादें जेहन में ताजा हो जाती हैं। इन दोनों सीरियल्स की पॉपुलरिटी की वजह से लाखों घरों में टेलीविजन खरीदे गये। ग्रामीण क्षेत्रों में लोग अपने जरूरी काम छोडक़र एक घंटा महाभारत और रामायण सीरियल देखते थे। इन सीरियल्स से लोगों ने बहुत कुछ सीखा और सीरियल में दिखाये जाने वाले तथ्यों को पुस्तकों में भी तलाशा। इसके बाद सास-बहू के सीरियल, साईं बाबा, भोलेनाथ, हनुमान, गणेश और अन्य देवी देवताओं से जुड़े सीरियल का चलन काफी दिनों तक रहा। इन सीरियल्स के अलावा ऐतिहासिक घटनाओं और व्यक्तियों के जुड़े सीरियल भी टीवी पर दिखाये जाते रहे हैं। इनका चलन आज भी है, जिसमें जोधा-अकबर, अकबर बीरबल, चन्द्रगुप्त मौर्य समेत कई सीरियल शामिल हैं। इनसे भी लोग कुछ सीखने की कोशिश करते हैं और सीरियल में दिखाये जाने वाले अंश को कहीं न कहीं तलाशते हैं और खुद में परिवर्तन करने की कोशिश भी करते हैं। लेकिन करीब एक साल से टीवी पर दिखाये जाने वाले ट्रेंड में तेजी से बदलाव आया है। इसमें नाग-नागिन से जुड़े सीरियल का चलन सबसे अधिक बढ़ा है। सबसे पहले महाकुंभ सीरियल में नागों को मणि और इंसानों के रक्षक के रूप में दिखाया गया। इसको कुंभ से जोडक़र दिखाया गया, तो लोगों ने काफी पसंद किया। इसके बाद एकता कपूर नागिन सीरियल लेकर आईं। बहुत जल्द नागिन का पार्ट-टू आने वाला है। वहीं भूत-प्रेत, चुड़ैल, जादू-टोने और सुपरनेचुरल शक्तियों से जुड़े सीरियल्स की भी भरमार है। ऐसे में जबरन दर्शकों को ऐसे सीरियल्स परोसे जा रहे हैं, जिनमें से अधिकांश का हकीकत से कोई वास्ता नहीं होता है।

सलिए हमें टीवी पर दिखाये जाने वाले सीरियल्स को लेकर सचेत रहना होगा। ऐसे सीरियल्स निश्चित रूप से लोगों ने मन में एक भ्रम और डर पैदा करने का काम कर रहे हैं। यदि इनको गंभीरता से लेकर समाधान नहीं निकाला गया, तो भविष्य के लिए नुकसानदायक साबित होगा।

Pin It