टिकट बंटवारे में दागियों को तरजीह परिवारवाद से नहीं उबर पा रही सपा

सात साल सजा काट चुके दीपक चौधरी को सपा से जिला पंचायत अध्यक्ष का टिकट

सांसद धर्मेन्द्र यादव की रिश्तेदार वंदना यादव हमीरपुर से और मुलायम सिंह के पौत्र अभिषेक यादव इटावा से प्रत्याशी 

Capture4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। भले ही सियासी दलों पर देश की राजनीति में साफ-सुथरे छवि के लोगों को ही प्रतिनिधित्व देने का दबाव बन रहा हो पर विधानसभा चुनाव के पहले ही यह आस धूमिल होती दिख रही है। राज्य की सत्तासीन पार्टी सपा के जिला पंचायत अध्यक्षों के प्रत्याशियों की जारी सूची से ऐसा ही कुछ झलक रहा है। इसमें तिहाड़ में सात साल सजा काट चुके दीपक चौधरी को जिला पंचायत अध्यक्ष का टिकट दिया गया है। इन्हें अलीगढ़ से जिला पंचायत अध्यक्ष पद का प्रत्याशी बनाया गया है। चौधरी हिस्ट्रीशीटर तेजवीर सिंह गुड्डू का बेटा है। खास बात यह है कि इस टिकट बंटवारे में भी पार्र्टी परिवारवाद से उबर नहीं पाई।
प्रदेश के जिला पंचायत अध्यक्ष पद के प्रत्याशियों की सूची में जिन लोगों को मौका दिया गया है। उनमें सांसद धर्मेन्द्र यादव की रिश्तेदार वंदना यादव को हमीरपुर से और मुलायम सिंह के पौत्र अभिषेक यादव को इटावा से प्रत्याशी बनाया गया है। बस्ती से मंत्री राजकिशोर के बेटे देवेंद्र सिंह और गोंडा से पूर्व मंत्री योगेश प्रताप की पत्नी को प्रत्याशी बनाया गया है। बिजनौर से मंत्री मनोज पारस की पत्नी नीलम पारस, अमरोहा से मंत्री महबूब अली की पत्नी सकीना बेगम, मेरठ से अतुल प्रधान की पत्नी सीमा को टिकट, गाजियाबाद से आशू मलिक के भाई नूर हसन को टिकट दिया गया है। इसके अलावा सपा ने आगरा से कुशल यादव, एटा से राजकिशोर, कासगंज से बसु यादव, फिरोजाबाद से विजय प्रताप सिंह, मैनपुरी से राहुल यादव, मथुरा से सुनीता नवहोआर, हाथरस से ओमवती यादव, कानपुर देहात से राम सिंह यादव, कानपुर से पुष्पा कटियार, फर्रूखाबाद से शगुना कठेरिया, कन्नौज से शिल्पी कटियार, औरैया से राजवीर सिंह यादव, झांसी से प्रतिमा और जालौन से फरहा नाज को टिकट दिया गया है।

Pin It