झांसी के बाद हरदोई में भी खुलेगा पैथालॉजी जांच का नोडल सेन्टर

राजधानी के अस्पतालों में पांच हजार की नि:शुल्क जांचें शुरू
लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान के पैैथालोजी विभाग की प्रो. नुजहत हुसैन ने की थी शुरूआत

 Capture4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। प्रदेश के झांसी जिले में उत्तर प्रदेश हेल्थ सिस्टम स्ट्रेंथनिंग प्रोजेक्ट के तहत शुरू हुए नोडल सेन्टर की सफलता के बाद राजधानी के अस्पतालों में भी यह सुविधा शुरू हो गयी है। शुक्रवार को बलरामपुर अस्पताल में नोडल सेन्टर के प्रारम्भ होने के साथ ही आज वीरांगना अवंतीबाई (डफरिन)अस्पताल में भी शुरूआत होनी है। पहली बार किसी संस्थान ने अपने संस्थान से बाहर जाकर मरीजों के हित में बड़ा कदम उठाया है। लोहिया संस्थान के इस कदम से रोजाना सैकड़ो मरीजों को लाभ मिलने वाला है। बलरामपुर अस्पताल में एक दिसम्बर से शुरू होने वाले नोडल सेन्टर का शुभारम्भ शुक्रवार को हो गया। इस सेन्टर पर लगभग 15० तरीके खून की जांच के लिए नमूने लिये जायेंगे। ये जांचे पूरी तरीके से मुफ्त होंगी। नोडल सेन्टर का औपचारिक उद्ïघाटन डॉ. राममनोहर लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान की डिपार्टमेन्ट ऑफ पैथालॉजी की हेड डॉ. नुजहत हुसैन ने किया। बलरामपुर अस्पताल में नोडल सेन्टर खुलने के साथ ही राजधानी में तीन और अस्पतालों में सेन्टर खोले जाने हैं। जिनमें से सिविल में नोडल सेन्टर पहले से चल रहा है। अभी तक वहां जांचों के लिए शुल्क लिये जाते थे, लेकिन अब वहां पर भी ये सुविधा मुफ्त कर दी गयी है।
झलकारी बाई अस्पताल में भी बनेगा नोडल सेन्टर
हजरतगंज स्थित झलकारीबाई अस्पताल राजधानी के प्रमुख अस्पतालों में से एक हैं। प्रो. नुजहत हुसैन ने बताया की जल्द ही नोडल सेन्टर वहां पर भी शुरू किया जायेगा। सुबह 8 बजे से शाम 6 बजे तक खून के नमूने लेने के चलते काफी मरीजों को इसका लाभ मिलने की उम्मीद है।
हरदोई में भी शुरू होगी सुविधा मरीजों को मिलेगा लाभ
2०12 में झांसी जिले में लोहिया संस्थान द्वारा शुरू किये गये नोडल सेन्टर की सफलता के बाद राजधानी में नोडल सेन्टर शुरू हो गया है। इसके साथ ही हरदोई जिले में भी इसकी शुरूआत करने की योजना है। जिससे वहां के मरीजों को मंहगी जांचोंं के लिए निजी संस्थानों के चक्कर लगाने से निजात मिलेगी।
कोरियर से मंगाये जाते हैं सैम्पल
प्रो. नुजहत हुसैन ने बताया कि झांसी के नोडल सेन्टर में लिये गये पैथालॉजी सैम्पल को कोरियर द्वारा मंगाया जाता है। जो दूसरे दिन लोहिया संस्थान पहुंचता है, उसी प्रकार हरदोई में नोडल सेन्टर के शुरू होने के बाद वहां से भी कोरियर द्वारा सैम्पल मंगाने की व्यवस्था की जायेगी।

Pin It