जिले में बदलेगी 500 तालाबों की सूरत

Captureजल बचाओ अभियान के अंतर्गत की जा रही तालाबों की खोदाई

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। जिले में जल बचाओ अभियान के अंतर्गत 500 तालाबों को पुनर्जीवित करने का अभियान शुरू किया गया है। इसमें पुराने और गाद से पट चुके तालाबों को चिन्हित करने का काम पूरा हो चुका है। तालाबों को गहरा और जल संग्रहण योग्य बनाया जा रहा है। मनरेगा की मदद से बने आदर्श स्थिति वाले तालाबों के किनारे पेड़ भी लगाये जायेंगे।
मुख्य सचिव आलोक रंजन ने 3 जून को बक्शी का तालाब विकास खण्ड के अन्तर्गत ग्राम बरा खेमपुर में जल बचाओ अभियान का शुभारंभ किया था। इसी दिन लखनऊ के 500 पुराने और पट चुके तालाबों को खोदने का कार्य शुरू किया गया था। इस अभियान के प्रथम चरण में एक हेक्टेअर से कम क्षेत्रफल वाले 500 तालाबों में खोदाई का काम शुरू कर दिया गया।
इसमें प्रति तालाब औसतन 100 मनरेगा जाब कार्ड धारकों को काम पर लगाया जाना था लेकिन मनरेगा के तहत धन निर्गत नहीं होने के कारण काम प्रभावित हो रहा है। तालाबों की खोदाई का काम नियमित रूप से नहीं हो रहा है।
तालाबों की तीन कैटेगरी का निर्धारण
जिले में भू जल संरक्षण एवं वर्षा जल संचयन हेतु अतिदोहित, क्रिटिकल और सेमी क्रिटिकल विकास खण्डों को चिन्हित किया गया है। इसमें एक हेक्टेयर से कम क्षेत्रफल वाले तालाबों के इनलेट तथा तालाबों को पुर्नस्थापित कराने की कार्यवाही मनरेगा से करायी जा रही है, उसमें महिलाओं की सहभागिता सुनिश्चित की जायेगी।
जिन तालाबों को मनरेगा के अंतर्गत आदर्श स्थिति में बनाया जायेगा, वहां वृक्षारोपण करवाना अनिवार्य है। तालाबों की खोदाई से संबंधित कामकाज की एक किताब तैयार की जायेगी। इसका मकसद पारदर्शिता लाना है।
ब्लाकों में चिन्हित तालाबों की संख्या
जिले में कुल आठ ब्लाक हैं। इसमें विकास खण्ड बीकेटी में 96, चिनहट में 10, गोसाईगंज में 70, काकोरी में 57, माल में 69, मलिहाबाद में 65, मोहनलालगंज में 81 और सरोजनीनगर में 52 तालाबों सहित कुल 500 तालाबों की खोदाई की जानी है। इसमें मनरेगा के अंतर्गत दो शिफ्ट में काम करवाया जायेगा।

तालाबों की खोदाई पर 21 करोड़ का खर्च

जिले में तालाबों की खोदाई पर 21 करोड़ रुपये की धनराशि खर्च होगी। इसमें प्रति तालाब औसतन 100 मनरेगा जाबकार्ड धारको को कार्य पर लगाया जा रहा है। इससे 50 हजार श्रमिकों को मनरेगा योजना के अंतर्गत काम दिया जा रहा है। इस प्रकार अभियान में कुल लगभग 16.27 करोड रुपये व्यय किये जायेंगे। मनरेगा के तहत 9.56 लाख मानव दिवस सृजित करना सम्भावित है। जिले में कुल 203.84 हेक्टेअर क्षेत्रफल पर तालाबों की खोदाई करायी जायेगी, जिससे प्रतिवर्ष लगभग 21872 लाख लीटर अतिरिक्त जल संग्रह करने में सफलता मिलेगी। इसके साथ ही 7381.80 लाख लीटर अतिरिक्त भू जल रिचार्ज होगा।

Pin It