जाट आरक्षण: दिल्ली तक पहुंची आग

सरकार की पेशकश ठुकरा कर जाट नेताओं ने आंदोलन खत्म करने से किया इनकार
जाटों ने रोक दिया मुनक नहर का पानी, दिल्ली की सप्लाई होगी प्रभावित

Captureनई दिल्ली। हरियाणा में आरक्षण की मांग रहे कर रहे जाट आंदोलन ने हिंसक रुख अख्तियार कर लिया है। जाट आरक्षण आंदोलन की आग दिल्ली तक पहुंच गई है। प्रदर्शनकारियों ने नरेला के पास एन एच 1 को जाम कर दिया है। मौके पर पहुंचकर पुलिस मामले को सुलझाने की कोशिश कर रही है।
सरकार की पेशकश को ठुकरा चुके जाट नेताओं ने आंदोलन खत्म करने से इनकार कर दिया है। उपद्रवियों को देखते ही गोली मारने के आदेश दिए गए हैं। जाटों ने मुनक नहर का पानी रोक दिया। इससे सीधे तौर पर दिल्ली की सप्लाई प्रभावित होगी। आंदोलनकारियों ने रोहतक में हरियाणा सरकार के एक मंत्री के स्कूल और एक मॉल में आग लगा दी। झज्जर में एसडीएम ऑफिस में तोडफ़ोड़ की गई। इसके अलावा रोहतक में गन हाउस में हमला कर हथियार और गोलियां लूट ली गई।

बेअसर हुई सीएम की अपील
जाटों के उग्र हुए आंदोलन के बाद मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने आर्थिक रूप से पिछड़े जाटों को आरक्षण देने का ऐलान किया था। उन्होंने प्रदर्शनकारियों से आंदोलन खत्म करने की अपील की, लेकिन उनकी एक नहीं सुनी गई है। रोहतक, जींद, झज्जर, भिवानी, हिसार, कैथल, सोनीपत और पानीपत में सेना ने मोर्चा संभाल लिया है। वहीं कई प्रभावित जिलों में मोबाइल और इंटरनेट सेवा बंद कर दी गई है।

रेलवे को दो सौ करोड़ रुपये का नुकसान
रेलवे मंत्रालय से मिली जानकारी के मुताबिक आंदोलन की वजह से रेलवे को रोजाना दो सौ करोड़ रुपये का नुकसान हो रहा है। हरियाणा से गुजरने वाली ट्रेनों को रद्द कर दिया गया है। सडक़ मार्ग भी हरियाणा से गुजरने वालों को रोका गया है। हरियाणा की हालत पर कल शाम दिल्ली में अहम बैठक हुई थी। बैठक में केंद्रीय गृह मंत्री, रक्षा मंत्री, विदेश मंत्री और वित्त मंत्री शामिल हुए। इस बैठक में हरियाणा की स्थिति और उससे निपटने के उपायों पर चर्चा हुई। इसके बाद सबने हरियाणा में शांति बनाए रखने की अपील की।

सेना के हवाले किए गए आठ जिले
हरियाणा के आठ जिलों को सेना के हवाले कर दिया गया है। भिवानी में सेना के जवानों ने फ्लैग मार्च निकाला। आंदोलन की वजह से मरने वालों की संख्या बढक़र चार हो गई है। रोहतक और भिवानी में कफ्र्यू लगा दिया गया है। कई जगहों पर आगजनी की खबर है। जींद में एक रेलवे स्टेशन फूंक दिया गया।

दिल्ली के 60 फीसदी इलाकों में असर
आरक्षण मांग रहे जाट आंदोलनकारियों ने दिल्ली में हाईवे जाम कर दिया। मौके पर खबर के लिए पहुंचे मीडियाकर्मियों पर हमला किया। मुनक नहर बंद कर दिए जाने से दिल्ली में पानी की सप्लाई प्रभावित हो गई। मामले पर दिल्ली सरकार के मंत्री कपिल मिश्रा ने नाराजगी जताई। उन्होंने कहा कि दिल्ली के 60 फीसदी इलाकों में इससे पानी मिलने में दिक्कत होगी। उन्होंने कहा कि हम हरियाणा सरकार के संपर्क में लगातार बने हुए हैं।

दिल्ली में पानी का संकट बढ़ा
हरियाणा की ओर से पानी रोके जाने से चंद्रावल और वजीराबाद प्लांट में पहले से ही कम क्षमता पर हो रहा काम बुरी तरह असर पड़ा है। जाट आंदोलन और पानी में आमोनिया की मात्रा बढऩे से हैदरपुर, द्वारका, नांगलोई और बवाना पर भी असर पड़ा है।

Pin It