जल्दी अस्पताल पहुंचो, प्रमुख सचिव दौरा करने आ रहे हैं…

  • राजधानी के अस्पतालों में अव्यवस्था और अधिकारियों के लापरवाही की निरीक्षण में खुली पोल
  • बलरामपुर अस्पताल, लोहिया अस्पताल तथा भाउराव देवरस अस्पताल में उपस्थिति रजिस्टर पर अनुपस्थित मिले चिकित्सक
    फोन पर साथी बताते रहे अधिकारियों के निरीक्षण का हाल

 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
5लखनऊ। राजधानी के सरकारी अस्पतालों में आज सुबह अफरा-तफरी का माहौल रहा। प्रमुख सचिव चिकित्सा स्वास्थ्य और अन्य अधिकारियों ने एक साथ कई अस्पतालों का निरीक्षण किया, जिसमें अस्पताल के चिकित्सकों की लापरवाही और अव्यवस्था की पोल खुल गई। प्रमुख सचिव ने अनुपस्थित अधिकारियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई का निर्देश भी दिया है।
बलरामपुर जिला चिकित्सालय से लेकर लोहिया संयुक्त चिकित्सालय, महानगर स्थित भाउराव देवरस अस्पताल तथा सिविल अस्पताल में एक साथ स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के दौरे से अस्पताल में हडक़म्प मंच गया। चिकित्सक से लेकर चिकित्सकीय स्टाफ तक बगले झांकने लगे। अस्पतालों में सुबह 8 बजे प्रदेश के स्वास्थ्य महकमे के आला अधिकारियों के औचक निरीक्षण से अस्पतालों के चिकित्सा प्रणाली की पोल खोल के रख दी। लोहिया अस्पताल से लेकर भाउराव देवरस अस्पताल तक चिकित्सकों के ओपीडी में देर से पहुंचने की बात भी सामने आयी है। बलरामपुर अस्पताल में प्रमुख सचित चिकित्सा स्वास्थ्य अरुण कुमार सिन्हा के सुबह-सुबह दौरे की खबर सुनते ही पूरे अस्पताल में हडक़म्प मच गया। जिसके बाद कर्मचारी से लेकर चिकित्सक तक में अपने -अपने कार्यस्थल पर पहुंचने की होड़ लग गयी। जो नहीं पहुंचे थे उनकों साथियों ने फोन करना शुरू कर दिया कि जल्दी आओ प्रमुख सचिव जांच के लिए आ गये हैं।

एक बेड पर दो मरीजों का इलाज

प्रमुख सचिव चिकित्सा स्वास्थ्य अरुण कुमार सिन्हा सुबह दौरे के लिए बलरामपुर अस्पताल पहुंचे। जहां सबसे पहले उन्होंने इमरजेन्सी का दौरा किया । वहां पर एक ही बेड पर दो मरीजों को लिटाए जाने को लेकर अस्पताल के प्रशासनिक अधिकारियों से जवाब तलब किया । जिस पर डेंगू तथा चिकिनगुनिया के बढ़ते मरीजों के चलते बेड फुल होने की बात बतायी गयी। इसके बाद प्रमुख सचित ने अलामारी तक को खोल कर दवाओं आदि के स्टाक का जायजा लिया। उन्होंने यहां पर फैली गन्दगी को लेकर अधिकारियों ेको जमकर फटकार भी लगायी। अस्पताल के निरीछण के दौरान प्रमुख सचिव ने भर्ती मरीजों का हाल – चला पूंछा इसके साथ ही अस्पताल प्रशासन को डेंगू के मरीजों के इलाज में किसी प्रकार की लापरवाही न बरतने के सख्त निर्देश दिये।

लोहिया अस्पताल में आलोक कुमार ने मंगाया उपस्थिति रजिस्टर

डॉ. राममनोहर लोहिया अस्पताल में सुबह 8 बजे औचक निरीक्षण के लिए पहुंचे एनएचएम निदेशक आलोक कुमार ने अस्पताल के चिकित्सक तथा चिकित्सकिये स्टाफ के उपस्थिति रजिस्ट्रर को मंगा लिया। जिस पर साढ़े आठ बजे के बाद भी 80 प्रतिशत चिकित्सकों की उपस्थिति दर्ज नहीं थी। रजिस्ट्रर को देखते ही निदेशक आलोक कुमार का पारा चढ़ गया। इसपर उन्होंने देर से आने वाले चिकित्सकों की जमकर फटकार भी लगायी है। इसके साथ ही उन्होंने समय पर ओपीडी मे न पहुंचने वाले चिकित्सकों को कारण बताओं नोटिस भी जारी की है। इसके अलावा डेंगू के कहर के बावजूद अस्पताल में साफ-सफाई व्यवस्था देखकर भी उन्होंने अस्पताल प्रशासन को सफाई व्यवस्था दुरुस्त कराने के निर्देश दिये हैं।

सफाई व्यवस्था का जिम्मा एक कर्मचारी को

भाउराव देवरस अस्पताल में विशेष सचिव डॉ. डीपी. सिंह ने अस्पताल में साफ- सफाई व्यवस्था को देखकर नाराजगी जतायी। जिसपर अस्पताल प्रशासन ने एक की सफाई कर्मी होने का हवाला देकर अपनी सफाई पेश की। इसके अलावा यहां पर भी विशेष सचिव ने उपस्थिति रजिस्टर मंगा कर देखा। जिस पर देर से पहुंचे चिकित्सकों को नोटिस जारी किया है।

Pin It