जरूरतमंद मरीजों को हक दिलाना मेरी प्राथमिकता: प्रोफेसर नुजहत हुसैन

  • आरएमएलआई में अन्तरराष्ट्रीय मानकों के तहत पैथालॉजी जांच शुरू करवाना उपलब्धि

 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
captureलखनऊ। राजधानी के डॉ. राम मनोहर लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान (आरएमएलआई) में अन्तरराष्टï्रीय मानकों पर पैथालॉजी जांचें की जा रही हैं। इतना ही नहीं राजधानी समेत प्रदेश के अन्य जनपदों के जिला अस्पतालों में नोडल कलेक्शन सेन्टर खोल कर ब्लड सैम्पल लोहिया संस्थान मंगाये जा रहे हैं, जिससे मरीजों को अन्तरराष्टï्रीय मानकों पर आधारित जांच रिपोर्ट मिल सके और उनका जीवन स्वस्थ हो सके । यह सब कुछ सम्भव हो पाया है लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान के पैथालॉजी विभाग की विभागाध्यक्ष प्रो. नुजहत हुसैन के प्रयासों से। उनका मकसद जरूरतमंद मरीजों को हक दिलाना है। अपनी इसी खासियत की नजह से वह लोगों के बीच में काफी मशहूर हैं।।
प्रो. नुजहत हुसैन ने वर्ष 2011 में अन्तरराष्ट्रीय स्तर के मानकों के अनुरूप जांचों का प्रारूप सरकार को भेजा था। उसके बाद इस पर काम शुरू हुआ और 2012 में झांसी एवं 2015 में राजधानी समेत रायबरेली, बाराबंकी तथा हरदोई के अस्पतालों में पैथालॉजी जांच के लिए नोडल कलेक्शन सेन्टर खोले गये। यह नोडल सेन्टर उत्तर प्रदेश हेल्थ सिस्टम स्ट्रेंथनिंग प्रोजेक्ट के तहत संचालित किये जा रहे है। जानकारों की मानें तो पहली बार किसी चिकित्सक ने अपने संस्थान से बाहर जाकर मरीजों के हित में बड़ा कदम उठाया। उन्हीं के प्रयासों की वजह से लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान के पैथालॉजी मे मौजूद उपकरणों तथा संसाधनों को दिखावटी साबित होने से रोका जा सका। प्रो.नुजहत हुसैन के इस कदम से रोजाना सैकड़ों मरीजों को लाभ मिल रहा है।

जनता को लाभ दिलाने की कोशिश

प्रो. नुजहत हुसैन ने बताया कि सरकार द्वारा किये जा रहे प्रयासों तथा निवेश का पूरा फायदा जनता को नहीं मिल पाता है। यदि पूरा फायदा जनता को मिलने लगे तो स्वास्थ्य सेवाओं में उत्तर प्रदेश का देश में पहला स्थान होगा। उन्होंने बताया कि अस्पतालों में नोडल सेन्टर खोले जाने का मुख्य कारण था कि जरूरतमंद व अर्थिक रूप से कमजोर मरीजों को जांच के लिए चक्कर न लगाना पड़े और उन्हें मुफ्त में उच्चस्तरीय जांच सुविधा उपलब्ध करायी जा सके । उन्होंने बताया कि पहले उच्चस्तरीय जांचे प्रदेश में नहीं हो पाती थी। साथ ही वह जांचे काफी मंहगी होती थी। मरीज के खून की जांच रिपोर्ट आने में कई दिन लग जाते थे। लेकिन लोहिया संस्थान की पैथालॉजी अन्तरराष्टï्रीय स्तर की है। जिससे नोडल सेन्टर पर आने वाले ब्लड सैम्पलों की जांच की गुणवत्ता उच्चस्तरीय रहती है। उन्होंने बताया कि नोडल सेन्टर पर मुफ्त में जांच की जा रही है, उन जांचों की बाजार में कीमत 5 हजार रुपये तक है। इन नोडल सेन्टरों का लगातार निरीक्षण किया जाता है, जिससे जरूरतमंद मरीजों को सरकार की तरफ से चलायी जाने वाली योजनाओं का लाभ मिल सके। हर महीने अस्पताल प्रशासन स्वयं नोडल सेन्टर पर होने वाली पैथालॉजी जांचों का निरीक्षण कर रिपोर्ट तैयार करता, जिससे पैथालॉजी जांचों में किसी प्रकार की गड़बड़ या त्रुटि नहीं होती है। इसकी गुणवत्ता भी बरकरार रहती है।

महिलाओं को संदेश

प्रो.नुजहत हुसैन का कहना है कि महिलाओं को अपना आत्मविश्वास बनाये रखना चाहिए। महिलाओं को घर से बाहर निकलना चाहिए। साथ ही किसी भी काम को करने में हिचकिचाना नहीं चाहिए। समाज में महिला हो या पुरूष सभी की भागीदारी जरूरी है।

प्रोफेसर नुजहत हुसैन
जन्म-22 जुलाई 1961
प्रोफेसर एण्ड हेड- डॉ. राम मनोहर लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान साथ ही आफिसर्स इन इंचार्ज स्टेट रेफरल सेन्टर फॉर लैब इन्वेस्टीगेशन
एमबीबीएस-जेएन मेडिकल कॉलेज,अलीगढ़,1985
एमडी- किंगजार्ज मेडिकल कॉलेज ,लखनऊ,1989
पूर्व निदेशक- डॉ. राम मनोहर लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान

Pin It